VPN क्या है? VPN के 4 फायदे जो आपको Online सुरक्षित रखेंगे

आज कल हम hacking के बारे में, या लोगो का data ऑनलाइन चोरी होने की बाते सुनते रहते है? ऐसे में सवाल उठता है की हम ऑनलाइन कैसे secure हो सकते है. जहाँ security की बात आती है वही VPN की बात भी आती है. आपने VPN के बारे में सुना होगा. और आप सोचते होंगे की VPN क्या है? और ये हमारे लिए क्यों फायदेमंद है ? तो चलिए आज हम बात करते है की VPN के इस्तेमाल से हम अपने आप के online कैसे secure कर सकते है.

VPN क्या है? (What is VPN in Hindi)

 

वपन क्या है और कैसे काम करता है?

VPN क्या है?

VPN (Virtual Private Network ), एक ऐसी service है जो आपको VPN server के जरिए internet से connect करता है। आपके computer, phone या tablet के बीच travel करने वाला सारा data “VPN server” से सुरक्षित रूप से छुप जाता (encrypted ) है। इस setup के परिणाम के रूप में आपको ये फायदे होते है.

  1. आपके ISP (और government) से आपकी internet activity को hide करके privacy देता है।
  2. Censorship (school, work, आपके ISP या government द्वारा) से बचने की सुविधा देता है।
  3. आपके geographical location को change कर उन services को access करने कि अनुमति देता है जो कि geographical location के हिसाब से आपको access करने कि अनुमति नहीं है।
  4. Public WiFi hotspot का उपयोग करते समय आपको hackers से सुरक्षित रखता है

VPN का उपयोग करने के लिए पहले आपको VPN service के लिए sign up करना होगा, जिसका आम तौर पर प्रति माह शुल्क 350 INR-700INR के बीच होता है।

VPN कैसे काम करता है?

आम तौर पर, जब आप internet से connect करते हैं, तो आप पहले अपने Internet Service Provider (ISP) से जुड़ते हैं, जो आपको किसी भी website से जोड़ता है जिसे आप visit करना चाहते हैं| आपके सारा internet traffic आपके ISP के server से गुजरता है और यह आपके ISP द्वारा देखा जा सकता है।
VPN का उपयोग करते समय आप encrypted connection के माध्यम से अपने VPN provider द्वारा चलने वाले server से connect होते हैं। इसका अर्थ है कि आपके computer और VPN server के बीच travel करने वाला सारा data छुपा ( encrypt ) दिया गया है ताकि केवल आप और VPN server ही इसे “देख” सकें।

VPN की याद रखने योग्य बाते

1. आपका ISP आपको track नहीं कर सकता
  • यह आपके data को नहीं देख सकता क्योंकि यह encrypt किया गया है|
  • यह पता नहीं लगा सकता कि आप किस website पर visit करते हैं|
  • आपका ISP केवल यह देख सकता है कि आप VPN server से connect हैं|
2. आप विभिन्न IP से internet तक पहुंच रहे हैं।

Internet से आपकी internet activity की निगरानी करने वाला कोई भी हो वह आपको केवल VPN server तक ही trace कर सकता है, जब तक कि VPN provider आपके details किसी को handover नहीं करता, आपका असली IP address छिपा हुआ रहता है।

3. Public WIFI hotspots का उपयोग करना सुरक्षित है

क्योंकि आपके devices और VPN server के बीच internet connection encrypted है। आपका WIFI सुरक्षित है क्योंकि यह encrypt किया गया है।

4. आपके VPN provider को पता है कि आप internet पर क्या करते हैं.

आपके VPN provider को पता होता है की आप क्या कर रहे है, पर आम तौर पर आपका VPN आपकी privacy की security का वादा करता है।

5. आपका internet ki speed slow होगी.

Data को encrypt करने और decrypt के लिए processing power की आवश्यकता होती है। इसका यह अर्थ है कि, technically, stronger encryption का उपयोग आपकी internet access को धीमा करेगा।

क्या VPN का उपयोग legal है?

हाँ। अधिकांश countries में नागरिकों के पास privacy का legal right है, और जहां तक मुझे पता है कि केवल एक VPN service का उपयोग करना illegal नहीं है।

VPN provider कैसे select करें?

आजकल VPN services बड़ी संख्या में हैं, और दुर्भाग्य से सभी VPN providers एक समान नहीं बनाये गए हैं। तो, आपको देखना होगा:
Price: (बेशक!)

  • Speed : VPN हमेशा encryption/decryption के दौरान speed खो देता है| Privacy : सभी VPN providers privacy का वादा करते हैं, लेकिन वास्तव में इसका क्या मतलब होता है? वे आपकी privacy को कितना hide रहे हैं|
  • Security : वे कितने अच्छे technical measures का उपयोग कर रहे हैं
  • Number of servers/countries : यदि आपको सभी जगह स्थित server से connect करना है, तो यह अधिक् होना ही बेहतर होगा|
  • Number of simultaneous connections : कुछ providers अपनी services को एक समय में केवल एक device को ही connect करने देंगी, जबकि अन्य आपको आपके PC, Laptop, phone से एक साथ connect करने की सुविधा देगा।
  • Customer support : वे कितने responsive हैं|
  • Free trials and money back guarantees : कोई service आपके लायक है, यह तय करने का सबसे अच्छा तरीका है कि इसे खरीदने से पहले आप इसे try कर लें!
  • Cross-platform support : एक service का कोई उपयोग नहीं होगा यदि वह आपके devices/OS पर नहीं चलता है| support के लिए विभिन्न platforms के लिए detailed में पढ़ ले.

Best VPN providers

  1. ExpressVPN
  2. NordVPN
  3. PrivateVPN
  4. Buffered
  5. CyberGhost

Free VPNs

Free VPN सर्विसेज भी उपलब्ध हैं, लेकिन ये लगभग सीमित हैं, या भरोसेमंद नहीं हो सकते हैं या फिर ये आपके data को बेच सकते हैं। जैसा कि पुरानी कहावत है, यदि आप किसी product के लिए pay नहीं करते हैं, तो आप ही product हैं ..

आपको पता होना चाहिए, की , कोई भी free VPN आपको एक good commercial service के performance या privacy benefits नहीं देगा।
फ्री VPN के examples.

  1. TunnelBear
  2. Windscribe
  3. Hotspot Shield Free

क्या VPN मोबाइल devices पर काम करता है?

हाँ, लेकिन…

VPN iOS और Android platforms पर अच्छी तरह से support करता है, और यह desktop computer की तरह ही आपके data को encrypt करेगा और सभी internet connection के लिए आपकी IP address hide करेगा।

हालांकि, … आपकी पहचान करने के लिए mobile apps के पास आपके IP address के अलावा अन्य कई तरीके हैं, कि आप online क्या कर रहे हैं जैसे apps के पास अक्सर GPS data, contact lists, Google Play/Apple Store ID और अन्य चीजो का access होता है।

VPN क्या नहीं करता है?

VPN का उपयोग करना आपकी privacy और security को बेहतर तरीके से improve करता है, लेकिन यह समझना जरुरी है कि यह किन चीज़ो में आपकी help नहीं करेगा:

Anonymity (गुमनामी) provide नहीं करता –

VPN छुपने में आपकी मदद नहीं करेगा, और हम किसी भी VPN provider के बारे में, जो भी कहे कि VPN आपको “गुमनामी (anonymous)” बना देगा,
पर ऐसे कहना गलत है.

VPN websites द्वारा tracking नहीं रोकता है –

VPN के साथ अपना IP address hide करने में कुछ मदद मिलती है, लेकिन ये आपको websites की cookies से आपको track करने से नहीं रोकता है.

VPN websites द्वारा tracking नहीं रोकता है –

VPN के साथ अपना IP address hide करने में कुछ मदद मिलती है, लेकिन ये आपको websites की cookies से आपको track करने से नहीं रोकता है.

क्या VPN मुझे anonymous बना देता है?

नहीं। VPN आपको anonymous नहीं करता है क्योंकि VPN provider हमेशा पता कर सकता है कि आप कौन हैं, और देख सकता है कि आप internet पर क्या कर रहे हैं।

आप VPN companies पर ट्रस्ट नहीं कर सकते!

यदि आप privacy के लिए VPN का उपयोग करना चाहते हैं, तो केवल एक “no logs “provider ( जो आपका डाटा save नहीं करता ) ही यह करेगा |
पर आप किसी भी VPN कम्पनीज पर भरोसा नहीं कर सकते, की वो आपका data leak नहीं करेगा.

तो VPN से कैसे अपनी privacy को secure करे ?

VPN के लिए गुमनाम(anonymous) रूप से भुगतान करना

अधिक secure कंपनियां उनकी services के लिए anonymous रूप से payment करने की अनुमति देती हैं| सबसे common method Bitcoins का उपयोग है |

यह privacy की एक extra layer जोड़ता है, क्योंकि VPN कंपनी को आपका real name, address, or banking details नहीं चलेगा। हलाकि कम्पनीज को आपके real IP address से पता चल जाएगा।

TOR का इस्तेमाल करे

 

TOR और VPN क्या है?

TOR- The onion Router

इसका मतलब यह है कि आप VPN service को Tor anonymity network के माध्यम से connect करते हैं, ताकि आपका VPN provider आपका real IP address न देख सके।

Conclusion

तो … क्या मैं “Safe” हूँ अगर मैं VPN का उपयोग करता हूँ?

यदि आप Tor का उपयोग करके signup करते हैं, और एक anonymous payment method ( bitcoin ) का उपयोग करते हैं, तो आप इस setup के साथ काफी high level का anonymity प्राप्त कर सकते हैं। हालांकि ध्यान रहे कि, VPN और Tor दोनों use करने से internet कनेक्शन बहुत slow हो जाता है।

Journalists, whistleblowers, और अन्य जिन्हें बहुत ही high level की anonymity की आवश्यकता है, उन्हें VPN के बजाय Tor उपयोग करना चाहिए।

में आशा करता हु की आप समझ गए होंगे की VPN क्या है ? और कैसे काम करता है ? अगर कोई भी सवाल हो तो कमेंट में पूछ सकते है.

2 Comments

  1. MN Hemant May 4, 2018
    • Umair habib May 6, 2018

Leave a Reply

error: