Server क्या है और कैसे काम करता है?

Server क्या है – आपने server के बारे में सुना होगा, जब काफी बार सुनने में आता है की server डाउन है, तो आप सोचते होंगे की ये server क्या है? या कभी उस प्रक्रिया (mechanisms) के बारे में सोचा है जिसकी वजह से यह page आप तक पंहुचा है?

शायद आप अभी किसी computer/mobile के सामने बैठे हैं, और इस page को browser में देख रहे हैं। तो, जब आपने इस page के link पर click किया था, या इसका URL (uniform resource locator) type किया था, तो यह page अपकी screen पर आने से पहले background में क्या हुआ?

आज तक हम बस अलग अलग websites पर गए है. पर आज हम जानेगे की कैसे उन websites के pages हमारे mobile /laptop पर खुलते है.

web Server ऐसा क्या काम करते है की, हम दुनिया में कहि भी हो फिर भी किसी भी वेबसाइट को कही से भी देख सकते है. चलिए शुरू करते है.

Server क्या है (What is a server in Hindi)?

 

आइये जानते है की server क्या है है और कैसे हमे इंटरनेट से कनेक्ट होने में मदद करता है.

server क्या है?

सर्वर एक मशीन है, जो की हमारा data स्टोर करता है. और ज़रूरत होने पर अलग अलग web ब्राउज़र पर हमारा डाटा शो करता है.

Server कोई कंप्यूटर हो सकता है जिसे internet पर या किसी local network पर requests को process करने और data को अन्य computer तक पहुचाने के लिए design किया गया है।

“server” शब्द web server से लिया गया है. जब भी हम web browser पर कुछ सर्च करते है, तो web Server ही उस पेज को हमारे browser पर भेजता है.

हालांकि किसी खास software को चलाने वाला कोई भी computer, server के रूप में कार्य कर सकता है।

सीधे-सीधे कहें तो , “server” वह software है जो हमारे data को store करता है और अलग अलग client (web browser) को भेजता है.
हालांकि, इस software को support करने वाले शक्तिशाली hardware को ही आमतौर पर एक server कहा जाता है.

Server के type

कुछ dedicated server होते हैं, जहां server केवल एक function को perform करता है, हालाँकि कुछ implementations द्वारा एक server का उपयोग multiple purposes के लिए जा सकता है।

एक medium-sized company को support करने वाले large, general-purpose network में विभिन्न प्रकार के server’s को उपयोग किया जाता हैं: जैसे की

Web Servers

Web servers, web browsers के माध्यम से page दिखाते हैं और applications को run करते हैं।

वह सर्वर जो आपके browser से अभी connected है वह एक web server है जो इस page को या कोई भी images जो आप देख सकते हैं, आदि को आप तक deliver करता है। इस case में client program, ज्यादातर browser ही होता है जैसे कि Internet Explorer, Chrome, Firefox, Opera, Safari, आदि।

Email Servers

Email server, Email messages को send करने व receive करने की सुविधा प्रदान करते हैं।

FTP Server

FTP server, File Transfer protocol tools के माध्यम से files के आदान-प्रदान (Transfer) को support करते है।

Identity Server

Identity servers, authorized users के लिए logins और सुरक्षा (security) के role को निभाते है और support करते हैं

Home server

चूंकि, server केवल software हैं, इसलिए लोग अपने घर पर server चला सकते हैं जोकि केवल home network से जुड़े devices में ही accessible होगा।

Web server काम कैसे करता है?

 

इस पूरी process को detail में समझने के लिए, आपको पहले इनके बारे में जानने की जरूरत है:

  •  Internet
  •  Clients and Servers
  • IP addresses
  • Domain Names
  • Name Servers
  • Ports
  • Protocols

Internet

तो, “internet” क्या है? Internet लाखों computers का एक बहुत बड़ा collection है, जिसमे सभी computers, network पर एक साथ जुड़े हुए हैं। network सभी कंप्यूटरों को एक दूसरे के साथ communication करने की अनुमति देता है।

Clients and Servers

आमतौर पर, internet पर सभी machines को दो प्रकार से categorized किया जा सकता है: servers और client. वे machines जो अन्य machines को services provide करती हैं वे server हैं, और वे machines जो उन services से connect करने के लिए उपयोग कि जाती वे client हैं (जैसे chrome, Mozilla and Firefox) ।

IP Addresses

इन सभी process को simple रखने के लिए, internet पर प्रत्येक machine को एक unique address दिया जाता है जिसे IP address कहा जाता है। IP का मतलब है internet protocol, और ये address 32-bit numbers हैं
एक IP address इस प्रकार दिखता है:

216.27.61.137

Internet पर हर machine के पास एक unique IP address होता है। एक server का एक static IP address होता है जो वैसे तो कभी change नहीं होता है।

Domain Names

चूंकि, अधिकतर लोगों को IP address के नंबरो को याद करने में परेशानी होती है, और साथ ही IP address को कभी-कभी बदलने की ज़रूरत होती है, इसलिए internet पर सभी server में human-readable नाम भी होते हैं, जिन्हें domain name कहते हैं|

Name Servers

Servers का एक set जो IP addresses को human-readable नामों में व्यवस्थित (map) करता है, domain name server (DNS) कहलाता है । ये servers simple database हैं जो IP address के नामों को व्यवस्थित (map) करते हैं, और उन्हें internet पर distribute करते है।

Ports

कोई भी server machine अपनी services को numbers के अनुसार ports का उपयोग करके internet पर available कराता है।

Protocols

जब कोई client किसी particular port पर किसी service से जुड़ता है, तो वह खास protocol का उपयोग कर उस service को access करता है। protocol पहले से निर्धारित (pre-defined) तरीका है जिससे किसी service को उपयोग किया जाता है|

Web Server की working

यदि आप internet पर कुछ search करना चाहते हैं तो आप एक web browser खोलेंगे और address bar में website का address टाइप करेंगे। तब browser, Domain name को IP address में translate करने के लिए name server से contact करता है, और browser उस IP address पर server से एक connection बनाता है।

HTTP protocol को follow करते हुए browser, server को एक GET request भेजता है।

तब server, browser को requested webpage के लिए HTML text भेजता है। और browser उस HTML tags को पड़ता है और page को आपकी screen पर format कर आपको दिखाता है।

Conclusion

उम्मीद है कि आप web सर्वेयर क्या है( What is server in hindi ) है और उसकी working कि वह कैसे WebPages को हमारे browsers पर serve करता है, अच्छी तरह से समझ गए होंगे।
किसी भी सवाल के लिए आप comment में पूछ सकते है.

5 Comments

    • Umair habib
  1. Umair habib
  2. yogesh kushwah

Leave a Reply