NDRF full form in Hindi – NDRF के काम क्या है?

NDRF Full form – National Disaster response force

चाहे नेपाल का भूकंप हो या फिर बिहार की बाढ़, उत्तराखंड में जंगलों की भीषण आग हो या ट्रेन दुर्घटना या कोई अन्य आपदा। आपने देखा होगा कि NDRF के जवान देवदूत बनकर आते हैं और अपनी जान पर खेलकर लोगों के जीवन को बचाते हैं। इतना ही नहीं, यह देश-विदेश के विभिन्न आपरेशनों में यह अभी तक पांच लाख से अधिक लोगों की जिंदगी बचा चुकी है।

लेकिन साथियों क्या आप NDRF full form जानते हैं? या यह कैसे काम करती है? आज हम आपको NDRF के विभिन्न पहलुओं के बारे में बताएंगे-

NDRF full form in Hindi

 जब भी कहीं भूकंप या कोई तूफान आता है तो NDRF वाले मदद के लिए आते है तो जानते है NDRF full form।

NDRF full form in Hindi

NDRF की फुल फार्म है – National Disaster response force

NDRF in Hindi – नेशनल डिजास्टर रिस्पांस फोर्स। इसे हिंदी में राष्ट्रीय आपदा मोचन बल भी पुकारा जाता है।

NDRF के काम क्या है?

इसका ध्येय वाक्य है- आपदा सेवा सदैव दरअसल, यह भी एक पुलिस फ़ोर्स है। इसे स्पेशल ट्रेनिंग दी जाती है। किसी भी आपात हालात का मुकाबला करने के लिए तैयार किया जाता है। देश में किसी भी आपदा प्रभावि‌त क्षेत्र में सहायता या संकट से जूझने में यह हमेशा तत्पर रहती है।

जिस तरह सेना सरहद पर देश की हिफाजत करती है। उसी तरह देश के भीतर प्राकृतिक या अन्य संकट आने पर NDRF हमेशा मदद के लिए तैयार रहती है। इसके जवान बड़े ही साहसी होते हैं।

ये भी जाने

NDRF की शुरुआत की जानकारी

NDRF की स्‍थापना 2006 में 8 बटालियनों के साथ हुई थी। द डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट यानी आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत इसका प्रावधान किया गया था।

शुरुआत में इसके पास केवल रुटीन ला एंड आर्डर की जिम्मेदारी थी, लेकिन 2007 में हुई एनडीएमए यानी नेशनल डिजास्टर मैनेजमेंट अथारिटी (राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन अभिकरण) की बैठक में इसकी अहमियत को स्वीकारा गया और 14 फरवरी, 2008 को एनडीआरएफ नियमों को नोटिफाई कर दिया गया।

कैपेसिटी बिल्डिंग का भी काम करती है

NDRF आपदा के वक्त बड़े पैमाने पर राहत और बचाव कार्य चलाने के साथ ही लोगों को भी इसके लिए ट्रेंड करती है। वह देश में विभिन्न कैपेसिटी बिल्डिंग प्रोग्राम चलाती है। यह अब तक अलग-अलग प्रोग्रामों में करीब 55 लाख लोगों को ट्रेंड बना चुकी है।

ये भी जाने

यह हैं NDRF की बटालियनें

NDRF की इस 12 बटालियन हैं, जिनमें करीब 1200 कर्मचारी काम करते हैं। यह बटालियन जो गुवाहाटी (असम), पश्चिम बंगाल, कटक (ओडिशा),वेल्लोर (तमिलनाडु), पुणे (महाराष्ट्र), गांधीनगर, भटिंडा(पंजाब), गाजियाबाद(उत्तर प्रदेश), पटना (बिहार), गुंटूर (आंध्र प्रदेश), वाराणसी(उत्तर प्रदेश), ईटानगर(अरुणाचल प्रदेश) में हैं।

इनमें बीएसएफ और सीआरपीएफ की तीन-तीन, जबकि सीआईएसएफ, आईटीबीपी, एसएसबी की दो-दो बटालियन शामिल हैं। हर बटालियन में 18 विशेषज्ञ सर्च और रेस्‍क्यू टीमें हैं। प्रत्येक टीम में 45 इंजीनियर, टेक्नीशियन, डाग स्‍क्वायड, मेडिकल स्पेशलिस्ट शामिल हैं।

इसके अलावा रीजनल सेंटर भी हैं, जो अंडमान के पोर्ट ब्लेयर, चेन्नई के अड्यार, आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम, कर्नाटक के बंगलूरू और तेलंगाना के हैदराबाद में है।

NDRF पोस्ट पर हमारी राय

इस पोस्ट में हम ने जाना की NDRF क्या है, क्या काम करती है, NDRF की बटालियन और NDRF full Form in Hindi के बारे में।

हमे कमेंट में बताये की आपको हमारी पोस्ट कैसी लगी? कोई सवाल हो तो ज़रूर पूछे।

सीखो सिखाओ, India को digital बनाओ

Leave a Reply

error: