NCERT full form in Hindi – NCERT क्या है NCERT के काम और कौन है ज़िम्मेदार

सरकार का काम विद्यालयों की स्‍थापना करना है। उनके लिए शिक्षा को सुनिश्चित करना है, ताकि बच्चों को शुरुअाती स्तर से ही शिक्षा मुहैया कराई जा सके। वह शिक्षा से वंचित न रहें।

लेकिन विद्यालयों में शिक्षा को किस तरह आसान बनाया जाए, इसके लिए किस तरह की ट्रेनिंग मुहैया कराई जाए, इस पर रिसर्च और उसके आधार पर केंद्र और प्रदेश सरकार को सलाह देने का काम एनसीईआरटी करता है। शिक्षा और समाज कल्याण मंत्रालय इन सलाहों पर काम करता है।

एनसीईआरटी इसके साथ ही स्कूली बच्चों के लिए किताबें भी प्रकाशित करता है। कई सरकारी  विद्यालय एनसीईआरटी की पुस्तकों को ही कोर्स में रखते है। एनसीईआरटी देश में स्कूली शिक्षा संबंधी सभी नीतियों पर कार्य करती है।

तो जानते है NCERT full form In Hindi और NCERT के काम.

NCERT full form in Hindi – एनसीईआरटी

एनसीईआरटी की फुल फार्म है – National Council of Educational research and training

NCERT in Hindi – नेशनल कौंसिल आफ एजुकेशनल रिसर्च एंड ट्रेनिंग यानी राष्ट्रीय शैक्षिक, अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद।

एनसीईआरटी के काम

इसका मुख्य कार्य शिक्षा एवं समाज कल्याण मंत्रालय को विशेषकर स्कूली शिक्षा के संबंध में सलाह देने और नीति-निर्धारण में मदद करने का है। शिक्षा के समूचे क्षेत्र में शोधकार्य को सहयोग और प्रोत्साहित करने के साथ ही उच्च शिक्षा में ट्रेनिंग को ट्रेनिंग देना।

स्कूलों में शिक्षा पद्धति में लाए गए बदलाव और विकास को लागू करना उसका काम है। राज्य सरकारों और अन्य शैक्षणिक संगठनों को स्कूली शिक्षा संबंधी सलाह आदि देना भी इसमें शामिल है। इसी तरह भारत में शिक्षा से जुड़े लगभग हरेक कार्य में एनसीईआरटी की मौजूदगी रहती है।

ये भी जाने –

NCERT को कौन कौन सहयोग देता है?

एनसीईआरटी को कई शैक्षणिक संस्‍थान सहयोग भी करते हैं। इनमें प्रमुख हैं: राष्ट्रीय शिक्षा संस्‍थान नई दिल्ली, केंद्रीय शिक्षा प्रौद्योगिकी संस्‍थान नई दिल्ली, पंडित सुंदर लाल शर्मा केंद्रीय व्यावसायिक शिक्षा संस्‍थान भोपाल, क्षेत्रीय शिक्षा संस्‍थान अजमेर, क्षेत्रीय शिक्षा संस्‍थान भोपाल, क्षेत्रीय शिक्षा संस्‍थान, भुवनेश्वर, क्षेत्रीय शिक्षा संस्‍थान मैसूर और उत्तर-पूर्वी क्षेत्रीय ‌शिक्षा संस्‍थान शिलांग।

महिला शिक्षा विभाग भी देता है NCERT को सलाह

एनसीईआरटी को डिपार्टमेंट आफ वूमेन स्टडीज (डीडब्‍ल्यूएस) यानी महिला शिक्षा विभाग (दि डिपार्टमेंट ऑफ वुमेन स्टडीज) भी सलाह देता है। यह महिला शिक्षा के क्षेत्र में कार्यरत है। यह संस्था नीतिगत बदलाव और सलाहों का आदान-प्रदान करती है। यह विभाग भी केंद्र और राज्यों के साथ मिलकर महिला शिक्षा के क्षेत्र में करीब बीते दो दशक से काम कर रहा है।

इनके अलावा, कई गैर सरकारी संस्थान भी एनसीईआरटी के साथ मिलकर शिक्षा के क्षेत्र में कार्यरत हैं। यह गैर सरकारी संगठन यानी एनजीआघ्‍े देश के सुदूर भागों में कार्यरत हैं। जहां सरकारी स्तर पर इंफ्रास्ट्रक्चर की मौजूदगी नहीं, वहां इन एनजीओ के साथ जुड़कर शिक्षा के कार्यक्रमों को आगे बढ़ाने का काम किया जा रहा है।

कौन है NCERT का ज़िम्मेदार

एनसीईआरटी के निदेशक 2015 में ऋषिकेश सेनापति को बनाया गया। मशहूर शिक्षाविद् कृष्‍ण कुमार भी इसके निदेशक रहे हैं। एनसीईआरटी को बेहतर डायरेक्टर मिले हैं। इन सभी ने प्राथमिक, माध्यमिक और उच्चतर माध्यमिक स्तर की शिक्षा में व्यापक सुधार लाए जाने के लिए कई बदलाव किए हैं।

एनसीईआरटी को स्कूली शिक्षा के रिसर्च और ट्रेनिंग कार्यक्रमों में अगुवा का दर्जा हासिल है।

ये भी जाने –

NCERT पोस्ट पर हमारी राय

इस पोस्ट में हम ने जाना की क्या है NCERT, कैसे काम करती है और NCERT full form In Hindi. हमे comment में बताये की आपको ये पोस्ट कैसी लगी. कोई सवाल हो तो ज़रूर पूछे.

सीखो सिखाओ, India को digital बनाओ

Leave a Reply

error: