MMS full form – MMS क्या है?

दोस्तों आप सभी ने कभी ना कभी तो MMS के बारे में जरूर सुना होगा। इसके साथ ही आप इसके बारे में ये भी जानते होंगे कि ये Mobile फ़ोन द्वारा एक दूसरे को Video या फ़ोटो भेजने की क्रिया को कहते हैं।

लेकिन अगर हम बात करें MMS के फुलफोर्म तथा इससे जुड़ी अन्य महत्वपूर्ण जानकारी की तो बहुत कम लोगों को ही MMS से जुड़ी जानकारी होती है। तो दोस्तों, अगर आपको भी MMS का फुलफोर्म नहीं पता है तो आप बिलकुल परेशान ना हों क्योंकि आज हम आपको ना सिर्फ़ MMS full form बताएंगे बल्कि इससे जुड़ी अन्य महत्वपूर्ण जानकारी भी देनें वाले हैं।

इस क्रम में आइये सबसे पहले जान लेते हैं कि MMS का फुलफॉर्म क्या होता है?

MMS full form in Hindi

MMS का फुलफॉर्म – Multimedia Messaging Service

MMS in Hindi – मल्टीमीडिया मैसेजिंग सर्विस.

वहीं इसका हिन्दी मे फुलफॉर्म होगा मल्टीमीडिया संदेश सेवा।

ये भी जाने

MMS क्या है?

दोस्तो जब से Mobile Phone और Internet हमारे हाथों में आया है तब से बहुत सी नई जानकारियाँ तथा नए नए शब्द भी हमारे सुनने में आये हैं। Internet और दिन पर दिन Mobile फ़ोन में आने वाली नई नई Technology ने इस दुनिया में एक क्रांति सी ला दी है। आज के समय मे Mobile फ़ोन का Use केवल एक दूसरे से बात करने तक के लिए ही सीमित नहीं रह गया है।

आज के समय में लोग फ़ोन का Use एक दूसरे से बात करने के साथ ही विभिन्न मनोरंजन के साधन के रूप में भी करते हैं। हम फ़ोन का Use जब फ़ोटो खींचने से लेकर वीडियो आदि बनाने के लिए भी करते हैं। इसके साथ ही हम फ़ोन से एक दूसरे को फ़ोटो या फ़िर Video भेजते भी हैं।

हालाँकि आज के समय में Whatsapp तथा अन्य Social Networking Sites की मदद से हम बहुत आसानी से कुछ ही Second में एक दूसरे के पास फ़ोटो अथवा Video आदि भेज देते हैं। लेकिन जब ये सभी Social Networking Site प्रचलन में नहीं आये थे तब एक दूसरे को Message के द्वारा ही फ़ोटो या Video भेजा जाता था। जब इस तरह से किसी व्यक्ति को Message के माध्यम से फ़ोटो या फ़िर Video भेजी जाती तो इसे MMS कहा जाता है।

आज के समय में MMS का प्रचलन काफ़ी कम हो गया है लेकिन कुछ समय पहले MMS काफ़ी प्रचलन में हुआ करता था। MMS की एक ख़ास बात ये थी की इसे भेजने के लिए एक मल्टीमीडिया फ़ोन का होना जरूरी है लेकिन इसे Recieve करनें के लिए ये जरूरी नहीं है कि आपके पास Multimedia फ़ोन हो। जब एक ऐसे फ़ोन में कोई MMS भेजा जाता है जिसमें इसे Recieve करनें के Capacity ना हो तो ये उसमें एक Text Message के रूप में जाता है।

इसके बाद आप उस Text Message को किसी भी Browser की मदद से खोल कर उसके अन्दर की Photo या Video को देख सकते हैं।

History Of MMS

अगर बात की जाए MMS के इतिहास की तो इसकी शुरुआत साल 1984 में कई गयी थी। Mobile Phone की खोज़ के बाद ही MMS की शुरुआत हुई थी। MMS की शुरुआत SMS( Short Message Service) ली तर्ज़ पर ही किया गया था। Mobile की खोज़ के बाद शुरू शुरू में एक दूसरे तक लिखित सन्देश पहुँचाने के लिए SMS का प्रयोग किया जाता था। इसके बाद इसी SMS के तरीके से जब एक दूसरे को मीडिया के संदेश जैसे कि फ़ोटो अथवा Video आदि भेजे जाने लगे तो इसे MMS कहा जाने लगा।

दुनिया भर के लोगो तक MMS की पहुँच बनाने का काम चीन ने सबसे पहले शुरू क़िया। साल 2009 में स्मार्टफोन की बाज़ार में अच्छी पकड़ बनने के बाद दुनियाभर में MMS भेजने वाले लोगो की संख्या में काफ़ी इज़ाफ़ा हुआ। स्मार्टफोन आने के नाद ही, साल 2010 से 2013 के बीच अमेरिका में MMS भेजनें वाले लोगो की संख्या में लगभग 70 फ़ीसदी की वृद्धि दर्ज़ की गयी।

MMS की खोज़ ने एना सिर्फ़ दुनिया के संचार माध्यम में एक नई क्रांति लायी बल्कि लोगों को एक दूसरे के और पास ला के खड़ा कर दिया। MMS के कारण ही आज हम अपने घर में बैठे हुए ख़ुद से हज़ारों मील की दूरी पर बैठे अपने दोस्त की ना सिर्फ़ फ़ोटो देख सकते हैं बल्कि उन्हें हँसते, चलते और दौड़ते हुए समय की वीडियो भी देख सकते हैं। Mobile Technology में MMS को अगर Science का एक विशेष उपहार कहा जाए तो ये कहीं से ग़लत नहीं होगा।

ये भी जाने

MMS पोस्ट पर हमारी राय

आशा करते हैं कि आपको हमारे द्वारा यहाँ पर दी गई MMS के बारे में जानकारी काफ़ी पसन्द आयी होगी। अगर आपके मन में हमारे इस Article से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण सुझाव और सलाह हैं तो आप हमें नीचें Comment के माध्यम से जरूर बताएं।

इसके साथ ही अगर आप ऐसा ही कोई और Article चाहतें है तो वो भी हमें Comment के माध्यम से जरूर बताएं। दोस्तों आप इस Article को अपने दोस्तों तथा जानने वाले लोगों के साथ जरूर Share करें ताकि उन्हें भी ऐसी महत्वपूर्ण जानकारियाँ मिलती रहे।

इस पोस्ट में हम ने जाना MMS क्या है इसके अलग अलग काम और MMS full form in Hindi. हमे comment में बताये की आपको ये पोस्ट कैसी लगी. कोई सवाल हो तो ज़रूर पूछे.

सीखो सिखाओ, India को digital बनाओ

Leave a Reply

error: