MIS full form – MIS क्या है?

MIS की फुल फार्म है – Management information system

बिजनेस हो या कोई फर्म। इन दिनों MIS उसका सबसे जरूरी पार्ट है। फर्ज कीजिए कि आप अपने प्राडक्ट की बिक्री बढ़ाने पर विचार कर रहे हैं। ऐसे में आपको वर्तमान आंकड़े की जरूरत होगी। इसके अलावा दूसरी प्रतियोगी कंप‌नियों के भी डाटा का आप एनालिसिस करेंगे। उसके लिए प्लान बनाएंगे, जिसके आधार पर आप फैसला लेंगे।

यह सारा डाटा बेस दरअसल मुहैया कराने का काम ही MIS का है। अगर आप अभी तक MIS full form से अंजान हैं या आप इसके काम के बारे में जानकारी नहीं रखते तो हम आपको इससे जुड़ी सारी जानकारी देंगे-

MIS full form in Hindi

MIS की फुल फार्म है – Management information system

MIS in Hindi – मैनेजमेंट इंफार्मेशन सिस्टम।

इसे हिंदी में प्रबंधन सूचना प्रणाली भी पुकारा जाता है। यह मूल रूप से एक रिपोर्टिंग टूल है। MIS के जरिये कई प्रमुख कंपनियों में ग्राहकों का डाटाबेस तैयार किया जाता है और जरूरत पड़ने पर इसका इस्तेमाल किया जाता है।

मैनेजमेंट फील्ड में इसे एकाउंटिंग, मैनेजिंग और सिस्टम रिपोर्टिंग टूल के रूप में भी इसका उपयोग किया जाता है। Tool के तोर पर भी किया जाता है. इसके जरिये कोई भी आर्गेनाइजेशन सारी सूचनाओं, जानकारियों को मैनेज करती है।

ये भी जाने

MIS के फायदे क्या है?

मसलन उसके कर्मियों, बिजनेस टूल्स और कामर्शियल गतिविधियों से जुड़ी जानकारियों को इकट्ठा करना और उनको मैनेज करना ही MIS का जिम्मा है। कोई भी कंपनी या बिजनेस कोई नया काम करती है या उसे कोई बड़ा फैसला लेना होता है तो वह MIS का उपयोग करती है।

डाटा मैनेजमेंट और एनालिसिस के लिए कंप्यूटर सिस्टम और तकनीकी का इस्तेमाल किया जाता है ताकि सटीक नतीजा मिल सके। फैसले लेने, योजना बनाने और वर्क कंट्रोल में सबसे अहम भूमिका MIS की ही है।

MIS की टीम अलग होती है

ज्यादातर आर्गेनाइजेशन में MIS का काम करने वाली टीम अलग होती है। सारा डाटा बेस इसी की निगाहबानी में रहता है। किसी भी अहम बैठक के लिए इसी टीम के सदस्य प्रेजेंटेशन भी तैयार करते हैं। साथ ही प्रेजेंटेशन देने का भी जिम्मा इन्हीं का होता है। यह कंपनी या किसी बिजनेस की परफार्मेंस के आंकड़े का भी प्रेजेंटेशन देते हैं ताकि आगे का फैसला लेते हुए इस प्रेजेंटेशन के दौरान दिए आंकड़े का भी ध्यान रखा जाए।

प्रेजेंटेशन के लिए टीम टेक्‍स्ट, ग्राफिक्स आदि का इस्तेमाल करती है। रिसर्च और एनालिसिस के आधार पर रिपोर्ट तैयार की जाती है, जिसका प्रेजेंटेशन होता है। इसके लिए कंप्यूटर तकनीक की जानकारी होनी बेहद जरूरी है। कुछ प्रेजेंटेशन को आकर्षक बनाने से जुड़े साफ्टवेयर पैकेज भी होते हैं, जिनकी जानकारी एक अहम भूमिका अदा करती है।

यूं भी समझ सकते हैं MIS को

MIS को एक मिसाल के जरिये भी समझ सकते हैं। उदाहरण एक न्यूज पेपर के एडवरटाइजमेंट डिपार्टमेंट ले लेते हैं। इसकी MIS टीम हर रोज छपे एड, इनसे मिलने वाले रिवेन्यू, प्रतियोगी न्यूज पेपर में छपे एड के साथ ही एनालिसिस पर आधारित रिपोर्ट तैयार करती है। इसी रिपोर्ट के आधार पर बैठक में जनरल मैनेजर अपने एडवरटाइजमेंट डिपार्टमेंट के कर्मचारियों से अपनी रणनीति डिस्कस करता है।

ये भी जाने

MIS पोस्ट पर हमारी राय

इस पोस्ट में हम ने जाना MIS क्या है, MIS के फायदे और MIS full form in Hindi के बारे में. हमे comment में बताये की आपको ये पोस्ट कैसी लगी. कोई सवाल हो तो ज़रूर पूछे.

सीखो सिखाओ, India को digital बनाओ

Leave a Reply

error: