MD full form in Hindi – MD का मतलब क्या है?

MD full form – Managing Director

MD full form in Medicine – Doctor of Medicine 

अगर आपने कभी किसी कंपनी में काम किया है तो आपने देखा होगा कि वहां एक एमडी यानी MD की पोस्ट भी होती है। कारपोरेट में तो खास तौर पर MD की धमक होती है। कोई भी नया युवा कंपनी में काम शुरू करते वक्त एक दिन उसका एमडी बनने का सपना देखता है।

कई युवा तो एमबीए करते वक्त यह ख्वाब ध्यान में रखते हुए अपनी पढ़ाई करते हैं। लेकिन क्या आपको पता है कि MD full form क्या है? उसका रोल या उसकी जिम्मेदारियां क्या हैं? नहीं, तो हम आपको MD से जुड़ी बारीक जानकारियां देंगे-

MD full form in Hindi

MD शब्द का इस्तेमाल medical और business दोनों में होता है तो जानते MD full form in Hindi।

MD full form in Hindi

MD की फुल फार्म Business में – Managing Director

MD in Hindi – मैनेजिंग डायरेक्टर।

MD की फुल फार्म Medical में – Doctor of Medicine 

MD in business

इसे हिंदी में प्रबंध निदेशक भी पुकारा जाता है। यह बोर्ड आफ डायरेक्टर्स यानी निदेशक मंडल और आर्गेनाइजेशन यानी संगठन के कर्मचारियों के बीच एक कड़ी के बतौर काम करता है। कारपोरेट में रोजमर्रा के आपरेशंस को अंजाम देने की जिम्मेदारी Managing Director यानी MD के ही कंधों पर होती है।

ये भी जाने

MD in Medical

केवल कारपोरेट वर्ल्ड में ही नहीं, बल्कि मेडिकल, हेल्‍थ फील्ड में भी MD होता है। दरअसल, यह एक डिग्री है, जो एमबीबीएस करने के बाद मेडिकल के स्टूडेंट्स लेते हैं। एमबीबीएस एक करीब साढ़े चार साल का कोर्स होता है, जिसके बाद एक साल की इंटर्नशिप होती है। इसे करने के बाद छात्र अपने नाम के आगे डाक्टर लिखने का अधिकारी हो जाता है।

इस फील्ड में MD की फुल फार्म Doctor of Medicine यानी डाक्टर आफ मेडिसिन होती है। इसका एक मतलब स्नातकोत्तर चिकित्सक या दवाओं का शिक्षक भी होता है। MD दरअसल, मूल रूप से एक लैटिन शब्द Medicine Doctor से लिया गया है। इसका मतलब होता है, ‘दवाओं का शिक्षक’। आपको बता दें कि MD चिकित्सा के क्षेत्र में उच्चतम शैक्षणिक Degree है।

MD पोस्ट पर हमारी राय

आपको बता दें कि ज्यादातर छात्र एमबीबीएस की डिग्री हासिल करने के बाद MD भी करने के इच्छुक होते हैं। इसमें भी दो साल लगते हैं। हालांकि कुछ ऐसे भी हैं, जो एमबीबीएस करने के बाद सरकारी नौकरी करने में ज्यादा रुचि दिखाते हैं और जूनियर डाक्टर के तौर पर अपना करियर शुरू कर देते हैं।

इन दिनों सरकारी के साथ ही निजी अस्पतालों में भी डाक्टरों की भारी मांग है। कुछ अपना खुद का क्लीनिक खोलकर प्रैक्टिस शुरू कर देते हैं। इनमें से ज्यादातर पैसा कमाने के साथ ही अपना अलहदा नाम भी कमाने के इच्छुक होते हैं। कुछ डाक्टर अपने बच्चों को एमबीबीएस की डिग्री इसलिए भी कराते हैं, ताकि उनके बाद उनके बच्चे उनके काम को संभाल सकें।

ये भी जाने

लोगों में धीरे-धीरे मेडिकल का क्रेज घट रहा है। इसकी एक वजह बड़ा डोनेशन भी है। अलबत्ता सरकारी कालेजों में काफी कम फीस है, लेकिन उसमें कंपटीशन तगड़ा है। सीटें सीमित होने की वजह से बहुत मेधावी छात्र-छात्राएं ही सरकारी मेडिकल कालेजों में सीट ले पाते हैं। आरक्षित वर्ग यानी रिजर्वेशन कैटेगरी के छात्र-छात्राओं को अलबत्ता जरूर फायदा मिल जाता है।

इस पोस्ट में हम ने जाना की MD का मतलब क्या है, MD का business या medical में क्या इस्तेमाल है और MD full Form in Hindi के बारे में.

Leave a Reply

error: