KYC full form in Hindi – KYC क्या है?

दोस्तो पिछले 2-3 सालों हम KYC शब्द के बारे में काफ़ी कुछ सुनते आ रहे हैं। ख़ासतौर से जब से प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा भारत को Digital India बनाने की शुरुआत की गयी है। Digital India की मुहिम में लगभग सभी Government सुविधाओं को तथा इसके साथ ही सभी Government योजनाओं को Online माध्यम में करनें का प्रयास किया जा रहा है। इसी डिजिटलीकरण में अक्सर लोगो के मुँह से KYC शब्द सुनने को मिलता है। खासतौर पर जब आप Bank में जाते हैं तो वहाँ पर विशेष रूप से लोगो द्वारा इस शब्द का प्रयोग करते देखा गया है।

अगर बात करें KYC के फुलफॉर्म की तो बहुत कम लोगो को ही इसका फुलफॉर्म पता होता है। इसी क्रम में आज हम आपको KYC का फुलफॉर्म बताने के साथ ही इससे जुड़ी अन्य जानकारी भी देनें वाले हैं।

इस क्रम में आइये सबसे पहले जानतें हैं कि KYC का फुलफॉर्म क्या होता है?

KYC full form in Hindi –

आज हम जानेगे KYC full form in Hindi.

KYC full form

KYC का फुलफॉर्म – Know Your Customer

KYC in Hindi – नो योर कस्टमर

अगर बात करें इसके फुलफॉर्म के हिंदी में अर्थ की तो इसका इस भाषा मे मतलब है- ‘अपने ग्राहक को जानों’।

ये भी जाने –

KYC क्या है?

मुख्य रूप से KYC शब्द का Use बैंकों में ही किया जाता है। KYC के अन्तर्गत किसी बैंक के सभी खाताधारकों को अपनी पूरी Detail बैंक को देनी होती है। इस Detail के अन्तर्गत खाताधारक को बैंक में अपना पूरा पता तथा Contact Details देना होता है। बैंकों द्वारा KYC करने का उद्देश्य अपने सभी खाताधारकों की पहचान करना है। जिससे कि वो बैंक में होने धांधली को कम कर सके।

KYC कराना क्यों ज़रूरी है?

RBI के नियमानुसार अब सभी Bank के लिए Customer का KYC करना अनिवार्य कर दिया गया है। इस KYC के अन्तर्गत सभी Customer का Identification करने के साथ ही उनके आधार कार्ड और पैन कार्ड को भी बैंक खाते से लिंक करवाना जरूरी कर दिया गया है। इसके साथ ही सभी Bank Customer के Mobile Number को भी Bank खाते से जोड़ने का काम किया जा रहा है। जिससे कि बैंक के खाते से संबंधित कोई भी जानकारी Customer को सीधे उनके Mobile Number पर SMS के द्वारा भेजी जाती है।

KYC कैसे करे?

Customer को Bank में अपना KYC करवाने के लिए KYC फॉर्म को भरना होता है। इस KYC फॉर्म में उसे अपनी पूरी Personal Detail तथा Contact Information भरनी होती है। इसके साथ ही उन्हें इस फॉर्म में अपना आधार और पैन कार्ड नंबर भी डालना होता है। इस फॉर्म को भरकर आप बैंक में जमा कर दें। जिसके बाद आपकी KYC पूरी हो जाती है।

KYC के फायदे?

सभी बैंकों के लिए KYC को अनिवार्य किया जाना भारत सरकार का एक सराहनीय क़दम है। इससे ना सिर्फ़ लोगो को बैंक की सुविधाओं का फायदा उठाने में आसानी हुयी है बल्कि खाते से संबंधित होने वाली धोखाधड़ी से भी काफ़ी बचाव हुआ है। ऐसे में अगर आपने अभी तक अपना KYC नहीं करवाया है तो अतिशीघ्र बैंक में जाकर इसे पूरा कर लें।

ये भी जाने –

KYC पोस्ट पर हमारी राय

तो दोस्तो आपको हमारा ये Article KYC क्या है और KYC full form in Hindi कैसा लगा, हमे Comment के माध्यम से जरूर बताएं। इसके साथ ही अगर आपके पास इससे जुड़े कुछ महत्वपूर्ण सुझाव और सलाह हो तो भी हमें Comment में जरूर बताएं। आप इस Article को अपने मित्रों तथा जानने वाले लोगो के साथ Share करना बिल्कुल मत भूलिएगा।

सीखो सिखाओ, India को digital बनाओ

Leave a Reply

error: