ISP full form – ISP के काम क्या है?

ISP का फुलफॉर्म – Internet Service Provider

इंटरनेट तथा Modern युग की शुरुआत के बाद हम लोगो को बहुत से नए-नए शब्द सुनने में आ रहे हैं। इनमें से बहुत से Word ऐसे भी होतें है जिसे हम पहली बार सुनते हैं या फ़िर कहें तो इन शब्दों का अर्थ भी हमें पता नहीं होता है।

ISP एक ऐसा ही शब्द है जो काफ़ी लोगो के लिए नया है। इसके साथ ही बहुत से ऐसे लोग भी है जिन्होंने ये शब्द सुना तो होगा ही लेकिन उन्हें इसका फुलफॉर्म नहीं पता होगा।

साथ ही वो ये भी नहीं जानते होंगे कि इसका मतलब क्या होता है? तथा ISP कहाँ पर Use किया जाता है? तो दोस्तों अगर आपको भी ISP का फुलफॉर्म नहीं पता तो आप परेशान ना हो क्योंकि आज हम आपको ना सिर्फ़ ISP का मतलब बताने वाले हैं बल्कि इससे जुड़ी अन्य महत्वपूर्ण Information भी आपको देने वाले हैं।

इस क्रम में आइये सबसे पहले जानते हैं कि ISP full form क्या होता है?

ISP full form in Hindi

क्या आपको मता है ISP के काम और ISP full form के बारे में.

ISP full form in Hindi

ISP का फुलफॉर्म – Internet Service Provider

ISP full form – इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर

ISP को हिन्दी में इंटरनेट सेवा प्रदाता भी कहा जाता है। ISP एक ऐसी संस्था या Company को कहते हैं जो लोगो को Internet की सुविधा देने का काम करती है। हम आसानी से इसे इस तरह से समझ सकते हैं कि हम अपने Smartphone या Computer तथा Laptop में जिस भी Company के Network से Internet चलाते हैं वो हमारा ISP होगा।

हम सभी को अपने Smartphone या किसी भी Device में इंटरनेट चलाने के लिए किसी ना किसी Network Provider की आवश्यकता होती है। जैसे कि हम अपने फ़ोन में Internet चलाने के लिए Idea, Vofafone, Airtel, Jio आदि में से किसी एक SIM का Use जरूर करते हैं। तो हम जिस भी Company का SIM अपने फ़ोन में लगाकर Internet चलाते हैं वो ही Company हमारा ISP यानी कि ‘Internet Service Provider’ कहलाता है।

दोस्तों हमने ISP के बारे में ये तो जान लिया कि ये इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर को कहा जाता है। अब इसी क्रम में आइये ISP के इतिहास के बारे में भी थोड़ा बहुत जान लिए जाए।

ये भी जाने

ISP का इतिहास

दोस्तों Internet की शुरुआत दुनिया में साल 1980 में हुई। लेकिन उस समय ये Internet आम लोगों की पहुँच से काफ़ी दूर था। उस समय Internet का Use सिर्फ़ Government Sector तथा कुछ बड़ी कंपनियों के Office में तथा बड़ी Universities में ही किया जाता था। लेकिन जब WWW की खोज़ हो गयी तो इसके बाद साल 1991 में आम लोगों को भी Internet का इस्तेमाल करने की इजाज़त दे दी गयी।

दुनिया मे पहली बार 1989 मे ऑस्ट्रेलिया में एक Company द्वारा लोगों को इंटरनेट की Service Provide करनें का काम किया गया था। लेकिन साल 1991 में जब आम लोगो ने भी Internet चलाने की शुरुआत की तो बहुत से बड़ी कंपनियाँ लोगो को Internet की सेवाएं देने के लिए आगे आयी। अमेरिका की कम्पनी ‘The World’ ने सबसे पहली बार अमेरिका में Commercial रूप से Internet की Service Provide करने का काम शुरू किया। उस समय कंपनियाँ लोगो को Internet की Servive देने के लिए Telephone के Line का ही Use करती थी।

धीरे- धीरे Technology के विस्तार के साथ ही इसमें काफ़ी सुधार होता गया और दुनिया भर की सैंकड़ो कंपनियाँ ISP यानी कि Internet Servive Provider बन के आगे आयी। आज के समय मे अधिकतर ISP कंपनियाँ केबल के द्वारा Internet लोगो तक पहुँचाती हैं वहीं अब कुछ कंपनियाँ धीरे धीरे वायरलेस Internet Service की भी शुरुआत कर चुकी है। पहले जब केबल System द्वारा लोगो को Internet की सेवा दी जाती थी तो इसके लिए Network Provider कम्पनियों को पूरे Area में Wire बिछानी पड़ती थी। लेकिन Wireless Internet Service की शुरुआत होने के बाद अब सिर्फ़ Tower और Setellite की मदद से लोगो तक Internet पहुँचाया जा रहा है।

Wireless Internet की Speed भी केबल Internet की Speed से काफ़ी ज्यादा होती है।

ISP के फायदे

इन्ही ISP की ही मदद से आज दुनिया के हर कोनें में और हर व्यक्ति तक Internet की पहुँच बन सकी है। वहीं समय के साथ ये Service काफ़ी सस्ती भी हुई है। आज Technology के Update होने तथा ISP कम्पनियों के Comptition की वज़ह से आम लोगो को Internet की सेवा काफी सस्ते दाम में मिल रही है।

एक तरह से अगर देखा जाए तो इन्हीं ISP कंपनियों ने ही पूरी दुनिया को Internet से जोड़ रखा है। और इन्ही की वजह से हम आज इतना Update रह पाते हैं।

ये भी जाने

ISP पोस्ट पर हमारी राय

इस पोस्ट में हम ने जाना ISP क्या है, इसके काम और ISP full form in Hindi के बारे में. हमे comment में बताये की आपको ये पोस्ट कैसी लगी. कोई सवाल हो तो ज़रूर पूछे.

सीखो सिखाओ, India को digital बनाओ

Leave a Reply

error: