IB full form in Hindi – IB की शुरुआत और काम की जानकारी

आईबी और रॉ का नाम आपने फिल्मों में खूब सुना होगा। आपने देखा होगा कि खुफिया दस्तावेजों के लेन-देन या इनकी की रक्षा से जुड़े काम में काम में हमारे जासूस दुश्मन देशों में घुसकर, भेष बदलकर देश के लिए जासूसी करते हैं। देशभक्ति के इस जुनून में उनकी जान में भी चली जाती है।

टाइगर, टाइगर जिंदा है, वतन के रखवाले जैसी कई फिल्मों में खुफियागिरी के इस काम का बखूबी चित्रण किया गया है। बचपन से ही कई लोग आईबी के जासूस होने का सपना पाल लेते हैं। आज हम आपको आईबी पर विस्तार से ब्योरा देंगे…

IB full form in Hindi – इब

IB की full form – Intelligence bureau

IB in Hindi – इंटेलीजेंस ब्यूरो या खुफिया ब्यूरो के रूप में भी जाना जाता है।

यह देश की आंतरिक खुफिया एजेंसी है। साथ ही दुनिया की सबसे पुरानी खुफिया एजेंसी भी मानी जाती है।

IB की शुरुआत

IB को 1947 में गृह मंत्रालय के अधीन खुफिया ब्यूरो के रूप में पुनर्गठित किया गया। यह सेंट्रल एजेंसी है। 19वीं सदी के उत्तरार्ध में उत्तर-पश्चिम की ओर से ब्रिटिश भारत पर रूसी आक्रमण के डर से निगरानी के लिए यह कदम उठाया गया था।

IB के काम

IB का इस्तेमाल देश के भीतर से खुफिया जानकारियां इकट्ठी करने के लिए किया जाता है। इसके साथ ही खुफिया और आतंकवाद-विरोधी गतिविधियों को लागू करने के लिए किया जाता है।

ये भी जाने –

इस ब्यूरो में कानून प्रवर्तन एजेंसियों के कर्मचारी शामिल होते हैं। खास तौर पर भारतीय पुलिस सेवा और सेना से। लेकिन इस ब्यूरो का डायरेक्टर हमेशा ही आईपीएस अधिकारी होता है।

1951 मे बढ़ा IB का जिम्मा

हिम्मत सिंह समिति (उत्तर और उत्तर-पूर्व सीमा समिति) की सिफारिशों के बाद 1951 में इस ब्यूरो का जिम्मा बढ़ा दिया गया। अब इसे घरेलू खुफिया जिम्मेदारियों के अलावा सीमावर्ती क्षेत्रों में खुफिया जानकारी एकत्र करने का भी काम सौंपा जाता है। आजादी से पहले सैन्य खुफिया संगठनों को यह काम सौंपा जाता था।

IB कैसे काम करती है?

क्लास 1′ (राजपत्रित) अधिकारी आईबी के समन्वय और उच्च-स्तर के प्रबंधन को देखते हैं। एसआईबी का मुखिया, संयुक्त निदेशक या उससे ऊपर के रैंक का अधिकारी होता है लेकिन कभी-कभी छोटे एसआईबी का प्रमुख उप निदेशक भी होता है। एसआईबी की इकाइयां जिला मुख्यालय में होती हैं जिसका मुखिया उप केंद्रीय खुफिया अधिकारी या डीसीआईआघ्‍े होता है।

आईबी, विभिन्न क्षेत्रीय इकाइयों और मुख्यालय का संचालन करती है (जो संयुक्त या उप निदेशक के नियंत्रण के अधीन हैं)। इसमें कई राजपत्रित और अराजपत्रित पदों पर अधिकारी कार्य करते हैं।

1968 में रा को मिला IB का कुछ काम

IB शुरू में भारत की आंतरिक और बाह्य खुफिया एजेंसी थी। लेकिन 1968 में इसे विभाजित किया गया और केवल आंतरिक खुफिया का कार्य सौंपा गया। बाह्य खुफिया शाखा को नव-गठित रिसर्च एंड अनेलिसिस विंग को सौंप दिया गया।

ये भी जाने –

बताया जाता है कि IB के पास इस वक्‍त देश की आंतरिक खुफिया एजेंसी का ही काम है। इसे यह सटीक तरीके से अंजाम दे रही है। कई आतंकी घटनाओं के इनपुट इसी एजेंसी के जरिये हासिल होते हैं।

IB पोस्ट पर हमारी राय

यह हमने IB के काम, शुरुआत और IB full form बताई है. हमे comment में बताए की आपको हमारी पोस्ट कैसी लगी? कोई सवाल हो तो ज़रूर पूछे.

सीखो सिखाओ, India को digital बनाओ

Leave a Reply

error: