HTML full form – HTML क्या है?

HTML full form – Hypertext markup language

क्या आप भी ऐसे लोगों में हैं, जो कंप्यूटर प्रोग्रामिंग में अपना करियर बनाना चाहते हैं? तो आपको HTML के बारे में जानना ही चाहिए। दरअसल, HTML से वेबसाइट बनने के बाद ही कोई भी व्यक्ति उस वेबसाइट को देख सकता है। आज हम आपको बताएंगे HTML क्या है, HTML full form, यह कैसे काम करता है? साथ ही इससे जुड़ी दूसरी बारीकियों के बारे में भी-

HTML full form in Hindi

आज हम जानेगे HTML full form in Hindi.

HTML full form

HTML की फुल फार्म है – Hypertext markup language

HTML in Hindi – हाइपर टेक्‍स्ट मार्कअप लैंग्वेज।

HTML क्या है?

यह कंप्यूटर की लैंग्वेज है, जिसे वेबसाइट बनाने के लिए यूज करते हैं। अब ऐसी कई लैंग्वेज हैं, जिन्हें यूज कर वेबसाइट, ब्लाग वगैरह बनाए जा सकते हैं।

ये भी जाने

HTML की हिस्ट्री?

HTML को इंटरनेट के शुरुआती दौर में 1980 में टिम बर्नर्स ली ने बनाया था। उस वक्त एक कंप्लीट वेबसाइट बनाने के लिए यही लैंग्वेज प्रयोग की जाती थी, लेकिन अब ऐसी कोई बाध्यता नहीं।

HTML language के फायदे?

कोडिंग का प्रयोग वेब पेज बनाने में, वेब एप्लिकेशन के लिए और इलेक्‍ट्रानिक डाक्यूमेंट बनाने, ग्राफिक्स बनाने के लिए भी किया जाता है। दरअसल, HTML कई ऐसे टैग देती हैं, जिससे आप अपनी वेबसाइट को आकर्षक बना सकते हैं। मसलन, रंग, फोंट साइज या ग्राफिक्स वगैरह। यह टैग ब्राउजर को बताता है कि टैग किए गए एलीमेंट को वेबसाइट पर कैसे और कहां दर्शाया जाए। इससे पूरा वेब पेज डिजाइन किया जा सकता है। बता दें कि HTML कोड लिखने के बाद फाइल को HTML Extension से सेव कर लेते हैं। इसके बाद इसे कंप्यूटर पर अपलोड करके ब्राउजर पर देखा जा सकता है।

HTML language के काम क्या है?

HTML के सिंटेक्स को मोडिफाई किया जा सकता है। दूसरे इसमें ग्राफिक्स का काफी यूज होता है। HTML 5 में विजिटर्स की जियो लोकेशन का भी पता लगाया जा सकता है। इसमें डेट, टाइम, कैलेंडर जैसे कुछ और फीचर्स जोड़े गए हैं। प्रेजेंटेशन बेहतर बना सकते हैं। इसके अलावा यह प्रोग्रामर को वेब पेज लिंक एड करने की सुविधा देता है। HTML प्रोग्रामर वेब पेज पर ग्राफिक, वीडियो और साउंड भी जोड़ सकता है।

HTML में आए बदलाव

HTML में लगातार बदलाव हो रहे हैं। HTML 4 में जो सुविधाएं या फीचर्स नहीं मिल पा रहे थे, उन सभी को HTML 5 में जोड़ा गया है। इसका मकसद यही है कि HTML प्रोग्रामर को वेब पेज डिजाइन करने में अधिक-से-अधिक सुविधा हो। वह एंड कंज्यूमर को बढ़िया प्रेजेंटेशन, बढ़िया ग्राफिक्स या अधिक-से-अ‌घिक कंज्यूमर तक पहुंच मुहैया करा सके। वेब पेज के साथ उसका अनुभव शानदार रहे। लैंग्वेज के इन बदलावों पर रिसर्च टीम लगातार काम करती रहती है।

ये भी जाने

HTML पोस्ट पर हमारी राय

अगर आप भी बेहतरीन प्रोग्रामर बनना चाहते हैं तो इस लैंग्वेज पर पकड़ बेहद जरूरी है। practice makes a man perfect यूं ही नहीं कहा गया है। साफ है कि आप लगातार लैंग्वेज पर काम करेंगे तो वह आपको बेहतर नतीजा देगी। फैक्ट यह भी है कि इस लैंग्वेज को सीखने के बाद आपको रोजगार से जुड़ी किसी दिक्कत का सामना नहीं करना पड़ेगा। इसके साथ ही अन्य लैंग्वेज भी सीखेंगे तो आपका स्कोप उतना ही ज्यादा बढ़ेगा।

इस पोस्ट में हम ने जाना HTML क्या है, HTML के काम और HTML full form in Hindi. हमे comment में बताये की आपको ये पोस्ट कैसी लगी. कोई सवाल हो तो ज़रूर पूछे.

सीखो सिखाओ, India को digital बनाओ

Leave a Reply

error: