GST क्या है – इसके फायदे और GST नंबर कैसे ले?

भारत में GST लागू हुए लगभग 1 साल से भी अधिक का समय हो गया है। लेकिन अभी भी GST की समझ बहुत कम लोगों को ही है। भारत सरकार द्वारा लागू इस कर व्यवस्था के नाम से तो सभी वाक़िफ़ हैं।

लेकिन, GST क्या है? यह कैसे काम करता है? तथा इसके लागू होने से हमारें आर्थिक स्थिति पर क्या Effect पड़ा आदि इससे जुड़े मूलभूत सवालों के जवाब बहुत कम लोगों के पास ही है।

इसी क्रम में आज हम आपको GST से जुड़ी सभी जानकारी देनें वाले है। तथा GST को लेकर आपके मन में उठने वाले सभी सवालों के जवाब भी देनें वाले हैं।

GST क्या है?

कोई भी काम करने के लिए आजकल GST बहुत ज़रूरी है तो जानते है GST in Hindi

GST in Hindi

GST का Full Form है “Goods and Service Tax” जिसका हिंदी में मतलब है- “वस्तु एवं सेवा कर”

इसके पूरे नाम को जाननें से ये तो साफ़ ही हो गया कि ये वस्तुओं यानी कि Goods तथा सेवा यानी कि Services पर लगनें वाला Tax है।

दोस्तों GST को समझने के लिए सबसे पहले इसके लागू होने से पहले की भारतीय Tax व्यवस्था को समझना होगा।

GST लागू होने के पहले भारत मे Tax व्यवस्था को Direct Tax तथा Indirect Tax के रूप में बाँटा गया था।

Direct Tax में ऐसे Tax आते थे जो कि नागरिकों द्वारा सीधे सरकार को दिया जाता था। Income Tax, House Tax, Entertainment Tax आदि इसके अंतर्गत आते हैं।

ये भी जाने – प्रधानमंत्री आवास योजना 2018 की जानकारी

दूसरे तरह का Tax था Indirect Tax, जिसे अप्रत्यक्ष कर भी कहते हैं। जब भी कोई सामान या Service बाज़ार में Customer के खरीदनें के लिए पहुँचती है तो तो उस समान को या service को Market में पहुँचाने के लिए तथा उसे Customer को बेचनें के लिए, उसके मालिक को भारत सरकार को Tax देना पड़ता है। इस Tax की भरपाई Customer के जेब से ही कि जाती थी।

इसके साथ ही पहले जब कोई सामान बिक्री के लिए Market में पहुँचता था तो उसकी Price में Service Tax, Vat, Excise Duty आदि कई तरह के Tax जुड़े होते थे। इन सभी Tax का भार उस समान को खरीदनें वाले उपभोक्ता पर आता था, और इतने सारे लगनें वाले करों का उसे पता भी नहीं होता था।

अब जबकि GST भारत मे लागू हो चुका है, तब उपभोक्ता को सिर्फ़ एक ही Tax का भुगतान करना होता है। अब किसी भी समान की खरीददारी पर लगनें वाले GST TAX के प्रतिशत का विवरण साफ- साफ उसकी रशीद पर लिखा होता है। जिसे समझने में किसी भी व्यक्ति को Confusion नहीं होती है। अब सभी व्यक्ति को उसके द्वारा किसी समान को खरीदनें के लिए किए गए भुगतान का पूरा पता होता है कि उसने कितने रुपये सामान के लिए दिए तथा कितने रुपये Tax के रूप में जमा किये।

भारत सरकार द्वारा GST लगाने का यही उद्देश्य है कि सभी करों को हटाकर पूरे देश मे एक ही Tax System लागू करना। पहले जहाँ किसी वस्तु का भारत के अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग Rate होता था वहीं अब GST लगनें के बाद इसके दायरें में आने वाली हर वस्तु का Rate पूरे भारत में एक ही है।

GST कैसे काम करता है?

GST के लागू होने से पहले राज्य सरकारें हर वस्तु पर अपना मनमाना Tax लगा देती थी जिस वजह से हर राज्य में एक ही वस्तु की Price में काफ़ी अंतर देखनें को मिलता था। लेकिन अब GST लगनें के बाद Tax व्यवस्था पूरी तरह से केंद्र सरकार के हाथ मे आ गयी है।

जब किसी वस्तु पर GST लगता है तो वो दो भागों में Devide होता है। जिसे क्रमशः SGST तथा CGST कहतें हैं। SGST का मतलब है “State Goods and Services Taxes” तथा CGST का अर्थ है “Central Goods and Services Taxes”।

ये भी जाने – AADHAR CARD की जानकारी

ग्राहकों द्वारा किसी वस्तु को खरीदनें के लिए दिया जानें वाला GST Tax का पैसा केंद्र सरकार तथा राज्य सरकार के बीच आधा-आधा बाँट लिया जाता है।

केंद्र सरकार ने विभिन्न वस्तुओं तथा Services को GST के अलग-अलग Percentage Range में रखा हुआ है, जो कि पूरे देश मे समान रूप से Fallow होता है। ये GST Rates क्रमशः 5%, 12%, 18% तथा 28 Percent हैं। भारत मे बिकने वाले सभी Product तथा Services पर इन्ही GST Rates में से किसी एक के अनुसार Tax लगाया जाता है।

GST नंबर कैसे ले?

दोस्तों GST को लेकर लोगो के मन मे ये सवाल भी उठता है कि आख़िर किस तरह से वो अपने Bussines का GST Registration करवाकर खुद को GST के दायरें में ला सकते है।

GST Registration कराने के लिए सरकार ने बेहद आसान Online व्यवस्था दी है। इसके लिए आपको बस gst.gov.in पर जाकर ख़ुद को Register करना होगा। GST की इस Website पर जाकर आप ‘Register Now’ पर Click करें।

‘Register Now’ पर Click करते ही अगले Page पर आपको एक Registraion Form मिलेगा। इस Form पर आपको अपनी Personal Detail के साथ ही Bank के Account संबंधी Detail भी देनी होगी। इसके साथ ही आपको अपनी Photo तथा Signeture भी यहाँ पर Upload करना होगा।

ये भी जाने – Polytechnic कैसे करे?

इन सभी Process को पूरा करने पर आपको आपके Bussines के लिए GST क्रमांक मिल जाएगा। अगर आपको GST Registration करनें में कोई दिक्कत आती है तो आप इसकी TOLL FREE HELPLINE-1800-1200-232 पर Call करके अपनी समस्या बता सकतें हैं।

Note – GST नंबर लेने का सबसे आसान तरीका है किसी वकील/Accountant को कुछ पैसे देकर अपना registeration करा सकते है|

GST के फायदे?

GST के बारें में इतना कुछ जाननें के बाद ये तो हम सभी को Clear हो गया कि GST की वज़ह से हमारें देश की Tax व्यवस्था में पारदर्शिता आयी हैं। इसके साथ ही GST के लागू होनें से TAX की चोरी तथा भ्रष्टाचार पर भी नकेल कसी गयी है। इसके साथ ही GST के लागू होने के कई और फ़ायदें भी है, जिनकी चर्चा अब हम यहाँ करनें वाले हैं।

ये भी जाने – Demat account क्या है?

  • वस्तुओं के दाम वृद्धि में रोक- GST लगनें से पूरा देश सिर्फ़ एक TAX के दायरे में आ गया है।अब Tax के ऊपर Tax लगनें की व्यवस्था समाप्त हो चुकी है, जिससे वस्तुओं के दाम में होनें वाली वृद्धि पर रोक लगती है।
  • आम जनता को राहत- जैसा कि हम सभी जानतें है कि GST को विभिन्न Rates में बाँटा गया है। ऐसे में जो आम लोगों की जरूरत की चीज़ें हैं उन्हें कम Percent वाले Tax के Range में रखा गया है। जिससे कि भारत की आम जनता को काफ़ी राहत मिली है।
  • Businessman को फायदा- पहले व्यापारियों को किसी समान को एक State से दूसरे State में ले जाने के लिए अलग-अलग State को चुंगी के रूप में Tax देना पड़ता था। वहीं अब वो सिर्फ़ एक बार मे ही Online Tax का भुगतान करके आसानी से अपने सामान को एक State से दूसरे State में ले जा सकतें हैं।
  • पूरा Tax System Online- पहले भारतीय Tax व्यवस्था काफ़ी Complicated थी, जिसकी समझ सिर्फ़ इससे जुड़ें लोगों को ही थी। इसके साथ ही छोटे- छोटे व्यापारी Tax की चोरी करने में भी क़ामयाब हो जाते थे। अब GST की शुरुआत के बाद सभी छोटे तथा बड़े व्यापारियों को एक ख़ास GSTN नम्बर Allot किया गया है। इस GSTN नम्बर के द्वारा किसी भी व्यापारी के Tax का ब्यौरा Online ही लिया जा सकता हैं। ऐसे में उसके द्वारा Tax चोरी का सवाल ही नहीं उठता है।

इस पोस्ट पर हमारी राय

GST निश्चित रूप से हमारें देश की अर्थव्यवस्था को तेज़ गति देनें का काम करेगा। GST के लागू होने से देश मे Tax चोरी तथा भ्रष्टाचार भी लगाम लगा है। सरकार को जब ज्यादा पैसा Tax के रूप में मिलेगा तो उस पैसे का उपयोग देश की ग़रीबी को हटाने तथा विभिन्न जन-सुविधाओं को बढाने के लिए भी किया जाएगा।

दोस्तों आज हमनें आपको GST के बारे में तथा इससे जुड़ी अन्य जानकरीं आपको दी। आशा करतें है कि आपको हमारी पोस्ट GST नंबर क्या है और कैसे बनाए पसन्द आयी होगी। इस Article से जुड़ा कोई भी सुझाव या जानकरीं अगर आप हमारे साथ Share करना चाहते है तो हमें Comment Box में लिख कर जरूर बताएं।

सीखो सिखाओ, India को digital बनाओ

4 Comments

  1. thakur aman singh September 20, 2018
  2. Thakur Aman Singh September 22, 2018
  3. Talendra Pratap October 11, 2018
    • Umair habib October 11, 2018

Leave a Reply

error: