FIR full form in Hindi – FIR का क्या मतलब है?

दोस्तो  हम सभी ने FIR के बारे में जरूर ही सुना होगा। TV न्यूज़पेपर तथा आएम बोलचाल की भाषा मे भी हम अक्सर लोगो के द्वारा FIR के बारे में सुनते रहते हैं। FIR के बारे में हम ये भी जानते हैं कि ये किसी भी घटना के लिए Police को दी जाने वाली Information को कहा जाता है। लेकिन अगर बात करें कि FIR Full form In Hindi में क्या होता है तथा इसके जुड़ी अन्य जंकरियोंकी तो बहुत कम लोगो को ही इससे जुड़ी जानकारी होती है।। इसीलिए दोस्तो आज हैं आपको FIR से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण जानकारी देने वाले हैं।

इस क्रम में आइये सबसे पहले जान लेते हैं कि FIR का फुलफॉर्म क्या होता है।

FIR full form in Hindi

FIR की फुलफॉर्म – First Information Report

FIR in Hindi – फ़र्स्ट इन्फॉर्मेशन रिपोर्ट

FIR meaning – ‘प्राथमिक सूचना’.

अगर बात करें FIR के फुलफॉर्म के हिन्दी मे अर्थ की तो इसका हिन्दी मे अर्थ होता है ‘प्राथमिक सूचना’.

ये भी जाने –

FIR क्या है?

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि सरकार द्वारा भारत के हर कोने में सुरक्षा व्यवस्था बनाये रखने के लिए पुलिस स्टेशन बनाया गया है। ऐसे में जब किसी भी व्यक्ति को समाज के किसी भी व्यक्ति या समूह से किसी भी प्रकार की असुरक्षा की भावना महसूस होती है या फिर कोई अन्य परेशानी होती है तो वो उयने स्थानीय पुलिस स्टेशन और जाकर इसकी सूचना पुलिस को दे सकता है। इसके बाद पुलिस का कर्तव्य होता है कि वो उस व्यक्ति की सुरक्षा सुनिश्चित करने के साथ ही उसकी समस्या का समाधान निकालने में उसकी मदद करें।

अतः जब कोई भी व्यक्ति अपनी या समाज की किसी भी समस्या को लेकर पुलिस को कोई सूचना देता है तो उसे FIR कहा जाता है।

FIR कैसे करे?

अगर हम समाज के किसी भी व्यक्ति या समूह से किसी भी तरह की दिक्कत महसूस कर रहे है तो हम अपने स्थानीय पुलिस स्टेशन पर जाकर इसकी रिपोर्ट दर्ज करा सकते हैं।

आपके द्वारा दर्ज कराई गई किसी भी रिपोर्ट पर पुलिस हमे इसकी एक Written Copy देती है। इसके साथ ही Police इस Report को उयने Register में भी दर्ज करती है। जिसके अनुसार वो आपकी Report पर जाँच कर के आपकी समस्या का समाधान निकालती है। किसी भी Police Station में दर्ज होने वाली ये FIR बिल्कुल मुफ़्त होती है। भारत का कोई भी व्यक्ति तब पुलिस स्टेशन में जाकर अपनी FIR दर्ज करा सकता है जब किसी व्यक्ति या समूह द्वारा उसके अधिकारों का हनन किया जाता है।

दोस्तो अब आइये आपको FIR से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण बातें बताते हैं-

  • भारत का कोई भी नागरिक किसी भी व्यक्ति के विरुद्ध FIR दर्ज करा सकता है।
  • FIR लिखने के बाद पुलिस को उस FIR के जाँच की रिपोर्ट अपने उच्च अधिकारी को देनी होती है।
  • FIR दर्ज कराना बिल्कुल मुफ़्त है और ये आपका संवैधानिक अधिकार है।
  • किसी भी पुलिसकर्मी द्वारा FIR लिखने के लिए पैसे की माँग करना गैरकानूनी है।जिसके लिए उसे सजा हो सकती है।
  • आप FIR अपने स्थानीय थाने में या फिर घटना के स्थान के सबसे पास वाले थाने पर ही दर्ज करा सकते हैं।
  • थाने में जाकर रिपोर्ट दर्ज कराने के साथ ही अब आप Online माध्यम से भी FIR दर्ज करा सकते हैं।
  • आप हर उस मामलें की FIR थाने में दर्ज करा सकते हैं जिसमे भारतीय संविधान के अनुसार आपके अधिकारों या स्वतन्त्रता हनन होता है।
  • आपकी FIR दर्ज होने के बाद एक निश्चित समय के भीतर ही पुलिस को आपकी समस्या के समाधान के लिए गए प्रयास के बारे में रिपोर्ट प्रस्तुत करनी होती है।

हम सभी को कभी भी किसी तरह की असुविधा या फिर कानूनी मदद के लिए तुरन्त ही पुलिस की मदद लेनी चाहिए। कानून हाथ में लेने से बेहतर है कि हम अपनी समस्या की FIR अपने निकटतम थाने में दर्ज करवायें।

ये भी जाने –

FIR पोस्ट पर हमारी राय

दोस्तो आज के इस Article हमने आपको FIR full form in Hindi में बताने के साथ ही इससे जुड़ी अन्य चीजों की जानकारी देने की कोशिश की है। आशा करते हैं कि आपको हमारे द्वारा यहाँ पर दी गयी सभी जानकारी काफ़ी पसन्द आयी होगी। अगर आपके पास हमारे लिए कोई महत्वपूर्ण सुझाव और सलाह हो तो हमें Comment कर के जरूर बताएं।इसके साथ ही आप इस Article को अपने दोस्तों तथा जानने वाले लोगो के साथ Share करना ना भूलें।

सीखो सिखाओ, India को digital बनाओ

Leave a Reply

error: