DSP full form in Hindi – DSP के काम, eligibility और DSP बनने का तरीका

DSP यानी डीएसपी बनने के लिए युवाओं में बहुत क्रेज रहता है। जो अपने ख्वाब को मंजिल बदलना चाहते हैं वह शुरू से ही तैयारी में लग जाते हैं। अपने सामान्य ज्ञान को तेज करने के साथ ही शारीरिक गतिवधियों पर भी खास ध्यान देते हैं। मसलन-दौड़ना, भागना। शरीर पर खास ध्यान देना। इस नौकरी के लिए केवल अच्छी पढ़ाई ही नहीं, बल्कि नियमानुसार वजन, शारीरिक बनावट आदि भी जरूरी है। इस सेवा को प्रतिष्ठित माना जाता है।

आज हम आपको बताएंगे कि डीएसपी की फुल फार्म क्या है, DSP full form in Hindi, इसकी निशानी क्या है? साथ ही डीएसपी किस तरह से बना जा सकता है? तमाम बिंदुओं पर जानकारी के लिए बस पढ़ डालिए-

DSP full form in Hindi – DSP का मतलब

DSP की फुल फार्म – Deputy Superintendent of Police

DSP in Hindi – पुलिस उपाधीक्षक

DSP के काम क्या है?

DSP अपने देश भारत में पुलिस विभाग में एक अधिकारी का पद है। राज्य पुलिस का यह अधिकारी राज्य पुलिस बलों का प्रतिनिधित्व करता है। इस रैंक के अधिकारी की पहचान यह है कि उसके कंधे की पट्टी पर एक स्टार के ऊपर एक राष्ट्रीय प्रतीक होता है।

ये भी जाने –

DSP यानी पुलिस उपाधीक्षक को को सहायक पुलिस आयुक्त के बराबर भी माना जाता है। राज्य सरकार के नियमों के मुताबिक इसे कुछ साल की सेवा के बाद आईपीएस रैंक में पदोन्नत किया जा सकता है. इस रैंक में सीधे पुलिस अधिकारियों की भर्ती के लिए परीक्षाएं आयोजित की जाती हैं। कुछ सालों की सेवा के बाद इंस्पेक्टर को भी इस रैंक में प्रोन्नत किया जा सकता है। डीएसपी की वर्दी पर स्टार के साथ-साथ लाल और नीली रंग वाली पट्टी नहीं होती है।

DSP कैसे बने?

जहां आईपीएस यानी इंडियन पुलिस सर्विस और हिंदी में कहें तो भारतीय पुलिस सेवा का अधिकारी बनने के लिए संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) की परीक्षा में बैठना पड़ता है तो वहीं डीएसपी बनने के लिए स्टेट पब्लिक सर्विस कमीशन यानी राज्य लोक सेवा आयोग की ओर से आयोजित परीक्षा में सम्मिलित होना और इसे पास करना पड़ता है।

इस परीक्षा के तीन चरण होते हैं। पहला प्राथमिक चरण, दूसरा मुख्य चरण और तीसरा साक्षात्कार यानी इंटरव्यू। प्राथमिक चरण में सामान्य अध्ययन के साथ ही वैकल्पिक विषय से जुड़े सवाल पूछे जाते हैं। इंटरव्यू का दायरा विस्तृत होता है। इसमें हर तरह के सवाल पूछे जा सकते हैं। यह मुख्यतः बौद्विक योग्यता की परीक्षा होती है। सम्मिलित अंकों के आधार पर अभ्यर्थी का इस सेवा में चयन संभव होता है।

DSP के लिए eligibility

डीएसपी बनने के लिए भी कुछ योग्यताएं निर्धारित की गई हैं। इसके लिए जरूरी है कि परीक्षार्थी की न्यूनतम ग्रेजुएट यानी स्नातक की परीक्षा पास हो चुकी हो। उसकी उम्र 21 से 30 साल के बीच हो।

ये भी जाने –

अनुसूचित जाति, जनजाति अभ्यर्थियों को उम्र में पांच साल की छूट का प्रावधान किया गया है। वह 35 वर्ष की उम्र तक इस परीक्षा के लिए आवेदन कर सकते हैं। वहीं अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) को 33 साल की उम्र तक इस परीक्षा के आवेदन करने का मौका मुहैया कराया गया है।

DSP पोस्ट पर हमारी राय

यह हमने DSP के काम, ज़िम्मेदारिया और DSP फुल फॉर्म बताई है. हमे comment में बताए की आपको हमारी पोस्ट कैसी लगी? कोई सवाल हो तो ज़रूर पूछे.

सीखो सिखाओ, India को digital बनाओ

Leave a Reply

error: