CNG full form in Hindi – CNG के फायदे क्या है?

CNG full form – Compressed Natural Gas

अगर आप दिल्‍ली जैसे शहरों में गए होंगे तो आपने देखा होगा कि अधिकतर पब्लिक ट्रांसपोर्ट यानी बसें या कारों आदि में अब CNG का इस्तेमाल हो रहा है।

दरअसल, पर्यावरण सुरक्षा के लिहाज से और दूसरा लोगों की जेब के लिए बेहद मुफीद और माकूल माने वाले इस ईंधन के प्रयोग को देश में सरकार भी बढ़ावा दे रही है। देश के कई शहरों में इस वक्त वाहन CNG से चल रहे हैं।

अगर आप CNG के मतलब और इसके फायदों के बारे में ज्यादा नहीं जानते तो हम आपको यह सारी जानकारी मुहैया कराएंगे-

CNG full form in Hindi

क्या आपको CNG gas की जानकारी है, अगर नहीं तो जाने CNG क्या है और CNG full form in Hindi इस पोस्ट में जाने।

CNG full form in Hindi

CNG की फुल फार्म है – Compressed Natural Gas

CNG in Hindi – कंप्रेस्ड नेचुरल गैस।

इसे हिंदी में संपीडित प्राकृतिक गैस भी पुकारा जाता है। इसके फायदे को देखते हुए धीरे-धीरे इसका इस्तेमाल बढ़ रहा है। बहुत सारे शहरों में गाड़ियों को CNG से ही चलाया जा रहा है।

आपको बता दें कि इसकी खूबियां भी इस कदर हैं सरकार भी चाहती है कि आम आदमी इसका प्रयोग बहुतायत में करे। प्रदूषण से अपनी असल सूरत खोते जा रहे शहरों की हालत सुधारने के लिए इसे बेहद जरूरी भी माना जा रहा है।

ये भी जाने

CNG gas के फायदे क्या है?

CNG की सबसे बड़ी खूबी यह है कि यह पेट्रोल, डीजल और रसोईघर के लिए एक अच्छा विकल्प है। दूसरे ईंधनों की तुलना में यह पर्यावरण के लिए ज्यादा नुकसानदायक नहीं मानी जाती है।

यह हवा से भी हल्की होती है। इसका कोई रंग, गंध नहीं होता। पेट्रोल की तुलना में तो यह कार्बन डाई आक्साइड, कार्बन और नाइट्रोजन आक्साइड का बहुत कम उत्सर्जन करती है।

दरअसल, इसका मुख्य घटक मीथेन गैस है, जिसकी वजह से यह पर्यावरण को हानि नहीं पहुंचाती। और आम आदमी के लिए जो CNG को लेकर सबसे फायदे की बात है, वो यह कि इसमें पेट्रोल और डीजल वाली गाड़ियों के मुकाबले कम खर्चा आता है। करीब 40 प्रतिशत।

CNG गैस की शुरुआत की जानकारी

पहले CNG का चलन केवल विदेशों में ज्यादा था, लेकिन बाद में भारत में भी प्रदूषण से जुड़ी समस्याओं को देखते हुए इसकी तरफ रुख किया गया। लोग अब इसी से वाहनों को चलाने को प्राथमिकता दे रहे हैं।

प्रदूषण को देखते हुए पाल्यूशन सर्टिफिकेट यानी पीसी के मानक भी कड़े किए गए हैं। ज्यादातर मोटर निर्माण कंपनियां भी अब सीएनजी मोटर व्हीकल के निर्माण पर जोर दे रही हैं। यह भी बता दें कि पिछले साल अप्रैल तक भारत में 1424 CNG स्टेशन थे और कुल CNG स्टेशनों का 82 फीसदी दिल्ली, मुंबई और गुजरात में हैं।

नई पीढ़ी खास तौर पर पर्यावरण संरक्षण के प्रति गंभीर है, लिहाजा उसका सारा जोर सीएनजी के इस्तेमाल पर है। दूसरे पेट्रोल के लगातार बढ़ते दाम ने भी CNG के इस्तेमाल करने के प्रतिशत को बढ़ाने काम किया है।

कई संस्‍थाएं लगातार सेमिनार कर ईंधन के इस स्वरूप को अधिक-से-अधिक इस्तेमाल किए जाने पर जोर देती हैं। पेट्रोलियम कंजरवेशन रिसर्च एसोसिएशन यानी पीसीआरए भी पर्यावरण संरक्षण और ईंधन के अन्य सीमित स्रोतों को देखते हुए इसे बेहद अहम करार देता है।

ये भी जाने

CNG पोस्ट पर हमारी राय

इस पोस्ट में हम ने जाना की CNG क्या है, CNG के फायदे और CNG full Form in Hindi के बारे में।

सीखो सिखाओ, India को digital बनाओ

Leave a Reply

error: