ब्लॉग क्या है – वेबसाइट और ब्लॉग में क्या फर्क है?

क्या आप जानते है की ब्लॉग क्या है?
अगर नहीं:

तो आप सही जगह आए है.
ब्लॉग की शुरुआत 1994 में एक पर्सनल डायरी की तरह हुई थी, जहाँ लोग अपने बारे में लिखते थे.
धीरे धीरे लोगो को अंदाज़ा हुआ की, वो किसी भी टॉपिक पर लिख कर ब्लॉग से पैसे कमा सकते है!!
वहाँ से शुरुआत हुई blogging की दुनिया की.

ब्लॉग क्या है – What is Blog in Hindi ?

आइये जानते है ब्लॉग क्या है

ब्लॉग क्या है-

ब्लॉग एक informational डायरी या जर्नल की तरह होता है जहाँ एक, या एक से ज़्यादा writer किसी topic पर लिखते है. ब्लॉग में जो आर्टिकल (पोस्ट) बाद में लिखा जाता है वो पहले नज़र आता है.

ब्लॉग किसी भी टॉपिक के ऊपर हो सकता है. Travel , Motivational , Money , या sports. Indian marketer भी एक ब्लॉग है जहाँ हम Digital मार्केटिंग के ऊपर लिखते है.

पोस्ट क्या होती है?

ब्लॉग पर कुछ भी content डालने के दो option होते है
पोस्ट और पेज.

पोस्ट

पोस्ट हर उस आर्टिकल को बोलते है जो ब्लॉग पर लिखी होती है.
ब्लॉग पर बार बार content डालने का मतलब, अलग अलग पोस्ट लिखना होता है. आप अभी जो पढ़ रहे है वो भी एक पोस्ट है.

पेज

पेज पर हम वो content लिखते है जिसे हमे change नहीं करना होता.
जैसे की About Us , Contact us या Privacy policy पेज. इन पर हम ने जो लिख दिया वो महीनो तक ऐसे ही रहेगा, पर पोस्ट को हम बार बार अपडेट करते रहते है.

ब्लॉग और वेबसाइट में क्या फर्क है?

आपने काफी बार सोचा होगा की ब्लॉग और वेबसाइट में क्या फर्क है. आप किसी भी वेबसाइट पर जाओ, सब वेबसाइट एक सी लगती है फिर ये ब्लॉग क्या है.
आज कल ब्लॉग में फर्क करना थोड़ा ज़्यादा मुश्किल हो गया है, जब से कम्पनीज ने अपनी वेब्सीटेस में ही ब्लॉग लगाना शुरू कर दिया है.

ब्लॉग में पोस्ट regularly डाली जाती है, ब्लॉग ओनर हफ्ते में एक दो बार ब्लॉग पर content लिखते रहते है.
पर :

पर वेब्सीटेस में content काफी कम अपडेट होता है, जो एक बार शुरू में वेब्सीटेस में डल गया वो महीनो या सालो तक ऐसे ही रहता है.
जो वेबसाइट के ओनर अपनी वेबसाइट को गूगल पर ऊपर दिखाना चाहते है, वो ब्लॉग को अपनी वेबसाइट में add करते है.

गूगल उन्ही वेबसाइट को ऊपर दिखाता है जो नया नया content अपनी वेबसाइट में डालते रहते है.
और वेबसाइट में नया content ब्लॉग की मदद से डल सकता है.

ब्लॉग का डिज़ाइन

ब्लॉग अलग अलग डिज़ाइन के हो सकते है पर, सब ब्लॉग में कुछ element एक सामान होते है जैसे की :

Header

Header ब्लॉग का सबसे ऊपर का हिस्सा होता है जहाँ Menu और navigation bar लगे होते है. Header का इस्तेमाल logo लगाने या add दिखाने के लिए के लिया भी होता है.

बॉडी

ब्लॉग में बॉडी बीच का हिस्सा होता है जहाँ सारी पोस्ट नज़र आती है. Header और sidebar हमेश एक जैसे ही रहते है पर बॉडी का content या पोस्ट अपडेट होती रहती है.

Sidebar

Sidebar में आप जो चाहे वो लगा सकते है. आपको अगर related पोस्ट दिखानी है तो वो लगा दिए या मेरी तरह सोशल प्रोफाइल के लिंक डाल दिए.

Footer

Footer ब्लॉग के नीचे का हिस्सा होता है जहाँ पर कुछ ज़रूरी पेज के लिंक और copyright का logo के साथ और भी information हो सकती है.

हर एक element का अपना यूज़ होता है, जो यूजर को पूरे ब्लॉग में आराम से navigate करने में मदद करता है.

ब्लॉग के features

ब्लॉग क्या है ये जानने के साथ ये भी जानना ज़रूरी है ब्लॉग के features क्या क्या है.

Archives

जब भी हम कुछ नया पोस्ट करते है तो, वो पोस्ट सबसे ऊपर नज़र आती है.
हमारी पुरानी पोस्ट धीरे धीरे पीछे जाती रहती है पहले से दूसरे, दूसरे से तीसरे पेज पर.
Archieve इन्ही पोस्ट को बोलते है. Archives की मदद से हम पुरानी पोस्ट को बड़ी आराम से ढूंढ सकते है.

Comments

ज़्यादातर ब्लॉग पर comment करने का ऑप्शन खुला होता है. आपने पोस्ट पढ़ी और कुछ चीस आपको पोस्ट में समझ नहीं आई, तो आप कमेंट में admin से सवाल पूछ सकते है.
Comment की मदद से एक कम्युनिटी बनाने में मदद मिलती है. आप कुछ सवाल पूछो, अपनी राये दो या बस राइटर की तारीफ कर दो.

ईमेल subscription

कुछ ब्लॉग में ईमेल subscription का ऑप्शन भी होता है. इसकी मदद से आप अपना ईमेल डाल कर ब्लॉग को subscribe कर सकते हो.
इस से जब भी उस ब्लॉग पर कोई नई पोस्ट आएगी तो आपको उसकी ईमेल पहुंच जाएगी.

Blogging क्या है?

blogging की शुरुआत एक web log से हुई थी, मतलब की web पर log या जर्नल बनाना. व्ही से वर्ड आया blog (WE-BLOG). जहाँ लोग अपनी दिन भर की बातो के बारे में लिखते थे.

पर कुछ लोगो ने देखा की अलग अलग टॉपिक पर ब्लॉग लिख कर पैसे कमाए जा सकते है.
व्ही से blogging एक marketing का तरीका बनने के साथ साथ पैसे कमाने का जरिया भी बन गई.

आज इंटरनेट पर पैसे कमाने के तरीको में blogging करना सबसे अच्छा माना जाता है.

Blogging की Definition

Blogging बहुत सारी skills का combination होता है, जैसे की लिखना, Links बनाना, Social मीडिया पर शेयर करना और ब्लॉग को मैनेज करना.

Blogging फेमस क्यों है?

बहुत सारे marketer आज ब्लॉगर बन गए है क्युकी:

  • ब्लॉग से पैसे कमाए जा सकते है
    सबसे पहेली और सबसे ज़रूरी वजह यही है. जहाँ पैसा होता है वह मार्केटर होते है, blogging में पैसा है इसलिए मार्केटर blogging में है. एक बार आपके ब्लॉग पर traffic या लोग आने शुरू हो जाये फिर आप गूगल एडसेन्स से या Affiliate मार्केटिंग से पैसा कमा सकते हो.
  • पोस्ट बनाना प्रोडक्ट बनाने से आसान है
    जी है, अपनी सही पढ़ा पोस्ट product की तरह होती होती है. आपको पैसा कमाना है तो आपके पास कोई product या service बेचने के लिए होनी चाहिए.
    अब आप हुद ही सोचो की एक product बनाना ज़्यादा आसान है या एक post लिखना.
  • वेबसाइट को गूगल पर रैंक कराने के लिए.
    गूगल को नया content पसंद है, वेबसाइट पर नया content blogging से ही डल सकता है.
  • loyalty बनाने के लिए
    अगर आपकी कंपनी है तो, अपने कस्टमर को नए नए प्रोडक्ट के बारे में बताने का ब्लॉग ही सबसे अच्छा तरीका है.

क्या blogging सबके लिए सही है ?

ब्लॉग क्या है और blogging सबके लिए है या नहीं ?
blogging फेमस है क्युकी इस से पैसे कमाए जा सकते है.
पर:

Blogging एकदम से पैसे कमाने का या अमीर बनने का तरीका नहीं है!!
blogging शुरू करने से पहले ये जान ले की :

1. Blogging टाइम लेती लेती है.

आपको महीनो तक अपने ब्लॉग पर post डालनी होगी. गूगल को नया content पसंद है, और नया content अपडेट करने के लिए आपको 1 हफ्ते में कई बार पोस्ट लिखनी होगी.
काफी ब्लॉगर blogging शुरू तो कर देते है पर महीनो तक ट्रैफिक न आने की वजह से वो blogging छोड़ देते है.

2. आपको लिखने में Interst होना चाहिए.

मेरी नज़र में blogging writer के लिए होती है. अगर आपको लिखने में मज़ा नहीं आता, तो आप 1 – 2 महीने बाद हो बोर हो जाएगे और blogging छोड़ देंगे .
पोस्ट बनाने के लिए आपको लिखना पड़ता है, और इतना कुछ लिखने के लिए, आपको writing पसंद होनी चाहिए.

3 . शुरू में इनकम नहीं है

blogging में शुरू के कुछ महीने इनकम बहुत कम है या है ही नहीं. आप पूरा दिन लिखो पर कुछ न मिले तो ये थोड़ा fursteting हो सकता है.
patience चाहिए औरअपने bills देने के लिए कोई साइड income भी होनी चाहिए.

ब्लॉग कैसे शुरू करे

ब्लॉग शुरू करना आसान काम है, उसे चलाते रहना थोड़ा मुश्किल है. आप चाहे तो शुरू में बिना पैसे खर्च किये blogging कर सकते है.

बहुत से ऐसे plateform है जो फ्री में blogging करने का ऑप्शन देते है. जैसे की WordPress और blogspot.
आपको इन platform पर domain name या वेबसाइट का नाम मिलेगा.

इस नाम के आगे उनके अपने plateform का नाम जुड़ा होता है जैसे की:
Www.example.Wordpress.com

ये नाम अच्छा नहीं है, तो जब आपको लगे की आप blogging के लिए त्यार है तो पैसे देकर ब्लॉग बना ले.
ब्लॉग बनाने के लिए आपको ज़रूरत होगी.

  1. Domain name – ब्लॉग का नाम
  2. Hosting – अपने ब्लॉग को इंटरनेट पर चलाने के लिए hosting आपकी files को store करती है.

इस पोस्ट पर हमारी राय

blogging तभी शुरू करे जब आपको किसी field की अच्छी जानकारी हो, या फिर आपको लिखना और पढ़ना पसंद है तो आप बाकी जगह से पढ़ कर अपने ब्लॉग पर लिख सको.

हर फील्ड की तरह blogging में भी काफी compitition है. पर अगर आपके रीडर को आपका ब्लॉग पसंद आया और वो बार बार आपकी पोस्ट पढ़ने आने लगे तो ये आपके लिए एक अच्छा फील्ड साबित हो सकता है.

ब्लॉग उन के लिए सही है जो 9 – 5 की जॉब न कर अपने वक़्त के अनुसार काम करना चाहते है.
हमें लगता है आपको हमारी पोस्ट ब्लॉग क्या है पसंद आई होगी.
कोई सवाल हो तो comment में ज़रूर पूछे.

सीखो सिखाओ, India को Digital बनाओ.

8 Comments

  1. Umair habib
  2. Afreen
    • Umair habib
  3. Pradeep Kumar
  4. phaguniya
    • Umair habib

Leave a Reply

error: