AADHAR CARD की जानकारी और इसके फायदे

किसी भी देश का नागरिक साबित करनें के लिए हमारें पास उस देश द्वारा ज़ारी किये गए किसी भी Identity Proof का होना ज़रूरी हैं। ये Identity Proof हमें किसी भी देश का नागरिक होने की बात को साबित करता है।

तो समझ लेतें है की Identity Proof क्या है?

Identity Proof एक ऐसा Document हैं जो कि किसी भी व्यक्ति की पहचान को साबित करता है। इसे किसी भी देश की Government या संस्था के द्वारा वहाँ के नागरिकों को प्रमाणित करने के लिए बनाया जाता है। Identity Card के अंदर किसी भी व्यक्ति का Driving License, Voter Card, Pan Card तथा किसी स्कूल या कॉलेज द्वारा ज़ारी किया गया पहचान पत्र आदि Document आतें हैं।

हमारे देश मे AADHAR CARD के शुरू होने से पहले किसी भी व्यक्ति के पास कई Identity Card होतें थे। ऐसे में विभिन्न सरकारी कार्यों में तथा अन्य कार्यों में लोगों से अलग-अलग तरह के ID CARD की Demand की जाती थी। जिससे आम लोगों को काफी Problem होती थी।

ये भी जाने – किसी भी नंबर की call history कैसे निकाले?

Indian Goevernment ने AADHAR CARD के रूप में सभी भारतीय नागरिकों को सिर्फ़ एक पहचान पत्र की सौगात दी। अब सम्पूर्ण भारत मे किसी भी व्यक्ति को बस एक ही ID CARD की जरूरत होती है। AADHAR CARD अब हर भारतीय का एकमात्र पहचान पत्र बन चुका है।

तो जानते है आधार कार्ड की जानकारी –

Aadhar card की जानकारी?

आधार कार्ड की जानकारी हिंदी में

Aadhar card in Hindi

साल 2009 में भारत सरकार ने सभी भारतीय नागरिकों के लिए एकमात्र ID CARD के रूप में AADHAR CARD शुरू किया। आधार कार्ड एक बहुत ही जरूरी Indentity card है, जो की आपके भारत का नागरिक होने का सबूत देता है। इसमें 12 अंको की एक संख्या छपी होती है जिसे UIDAI कहते है। 12 अंकों की ये UIDAI संख्या हर भारतीय नागरिक को एक अलग पहचान देती है। हर व्यक्ति के AADHAR CARD में छपे नंबर अलग-अलग होते हैं।

कौन बनवा सकता है AADHAR CARD?

भारत मे कोई भी व्यक्ति AADHAR CARD के लिए Free में Apply कर सकता है, बशर्ते वो भारत का निवासी हो ।AADHAR CARD बनवाने के लिए किसी भी व्यक्ति का Age और Gendar मायनें नही रखता है। AADHAR CARD की यही ख़ासियत इसे अन्य Identity Document से अलग बनाती हैं।

Aadhar Card कैसे बनाये?

भारत सरकार ने भारत के हर कोने में AADHAR CARD का Centre खोला है ताकि लोगो को इससे बनवाने में किसी तरह की परेशानी का सामना न करना पड़े। अब तो कोई भी भारत का नागरिक आधार कार्ड के लिए Online भी Apply कर सकता है । इसे बनवाने के लिए नागरिको को सिर्फ़ Birth Certificate देना होता है। इसके बाद उस व्यक्ति की अंगुलियों के निशान तथा उसके आँखों के निशान समेत अन्य Biometric Details ली जाती है।

इस Biometric Process के बाद बाद उस व्यक्ति को एक विशिष्ट संख्या जिसे की UIDAI कहा जाता है, प्रदान किया जाता है। इसे AADHAR NUMBER भी कहते हैं।

ये भी जाने – Email id कैसे बनाए?

AADHAR CARD बनवाते समय किसी भी व्यक्ति के लिये गए Biometric निशान उसके AADHAR संख्या के अनुसार भारत सरकार के पास Save हो जातें हैं। इन सब की जानकारी भारत सरकार के पास सुरक्षित रूप से जमा रहती है। AADHAR CARD देश की सुरक्षा में योगदान देने के साथ ही सभी नागरिकों के लिए एक विशिष्ट पहचान पत्र के रूप में भी जाना जाता है।

AADHAR CARD के उपयोग?

आज के समय मे किसी भी भारतीय नागरिक के लिए AADHAR CARD सबसे ज़रूरी Document माना जाता है। एक छोटे बच्चे के स्कूल में Addmisson से लेकर Bank में Account Open करना हो या फ़िर किसी College में Addmisson लेना हो, आज के समय बिना AADHAR CARD के कोई भी Official work संभव नहीं हैं।

अब तो भारत सरकार ने सभी व्यक्ति के Mobile Number को भी AADHAR CARD से जोड़ना अनिवार्य कर दिया है। एक तुरंत पैदा हुए नावज़ात से लेकर ज़िन्दगीं के आख़िरी पड़ाव में खड़े व्यक्ति तक, सभी व्यक्ति अपना AADHAR CARD बनवा सकतें हैं। वहीं इसके Expire होनें की भी कोई समय सीमा नहीं हैं।

AADHAR CARD के बारें में कुछ facts-

  • भारत सरकार द्वारा ज़ारी AADHAR CARD दुनिया की सबसे बड़ी Biometric Id System है.
  • अब तक भारत में कुल 1.2 Billion लोगों का आधार कार्ड का बन चुका है.
  • ये एक मात्र ऐसा ID CARD हैं जिसमें व्यक्ति की पहचान, पता, जन्म तिथि और उसका Biometric प्रमाण पत्र एक ही Card में रहता है.
  • यह किसी भी उम्र के बच्चों के लिए भी बनाया जा सकता है.
  • AADHAR CARD के द्वारा नागरिको का पूरा Data एक ही जगह पर होने से कई तरह की मुश्किलों का समाधान हुआ है.
  • 23 September साल 2013 में Supreme Court of India ने अपना फैसला सुनाया की भारत के हर नागरिक को पास AADHAR CARD का होना अनिवार्य है.
  • पूरे भारत के व्यक्तियों के AADHAR का Data बेंगलेरू के मनेसर में स्थित Server Room में रखा गया है। यहाँ पर स्थित लगभग 7000 Server Room में 1.2 Billion लोगों का Data सुरक्षित रखा गया है.
  • AADHAR CARD की शुरुआत को भारत के Digital युग की शुरुआत के रूप में भी जाना जाता है.

AADHAR CARD के रूप में भारत के लोगो को पहचान देने का लक्ष्य और भारत को झूठे और नकली पहचान वाले लोगों से मुक्त करना है। इसके साथ ही दुनिया के अन्य देशों की ही तरह Technology तथा Digital युग मे प्रवेश करना भी है। AADHAR CARD हर भारतीय नागरिक की पहचान का सबूत है जिसे की सभी को हासिल करना चाहिए।

आधार कार्ड की जानकारी पोस्ट पर हमारी राय

दोस्तों आज हमनें आपको आधार कार्ड की जानकारी दी है । आशा करतें है कि आपको यहाँ पर दी गयी जानकारी काफ़ी पसंद आयी होगी। अगर आप हमें इस Article से Related कोई ज़रूरी सुझाव या सलाह देना चाहतें है तो हमें Comment करके जरूर बताएं, ताकि हम आपके लिए आगे भी इसी तरह के Article लातें रहें।
कोई सवाल हो तो ज़रूर पूछे.

सीखो सिखाओ, India को digital बनाओ

One Response

  1. thakur aman singh September 15, 2018

Leave a Reply

error: